नाच गाने जैसी सामाजिक कुरीतियों के बंद के आह्वान के साथ मनाई ईद,
काली पट्टी बाँधकर साम्प्रदायिक घटनाओं का जताया विरोध

Sufi Ki Kalam Se

नाच गाने जैसी सामाजिक कुरीतियों के बंद के आह्वान के साथ मनाई ईद
काली पट्टी बाँधकर साम्प्रदायिक घटनाओं का जताया विरोध
सीसवाली, 3 मई । (गेस्ट रिपोर्टर फिरोज़ खान)
सीसवाली कस्बे में ईद उल फितर का त्यौहार सादगी पूर्ण तरीके से मनाया गया। कोरोना काल के पूरे 2 साल बाद ईदगाह में नमाज अदा की गयी। मुस्लिम समुदाय के लोग बड़ी संख्या में अंता रोड स्थित ईदगाह में उपस्थित हुए जहां शहर काज़ी ईस्हाक मोहम्मद साहब ने ईद उल फितर की नमाज़ अदा करवाई। नमाज़ से पूर्व अहले जमात ईदगाह कमेटी के सेक्रेटरी इनायत हुसैन ने कमेटी का हिसाब बताया साथ ही ईदगाह में हो रहे निर्माण कार्यो को लेकर खनन एंव गोपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया और आदर्श ग्राम पंचायत के सरपंच एम इदरीस खान का आभार व्यक्त किया। अहले जमात ईदगाह कमेटी के सदर अब्दुल गफूर अंसारी ने समाज में फैली बुराईयों को खत्म करने का आह्वान किया और लोगों से शादियों में नाच, गाने, स्टेज प्रोग्राम में इन बुराईयों को जड़ से खत्म करने की अपील की। नमाज के बाद सभी मुस्लिम जनों ने अमन चैन की दुआ की और एक दूसरे से गले लगकर मुबारकबाद दी।
ईद के इस मुबारक मौके पर सरपंच इदरीश खान और प्रमोद जैन भाया के प्रतिनिधि बंटी जी शर्मा ने कस्बे वासियों को ईद उल फितर की मुबारकबाद देते हुए शहर काज़ी की दस्तारबंदी की। इस मौके पर राहुल शर्मा, पप्पू कहार, विनय जैन, रामेश्वर कहार भी उपस्थित रहे।
काली पट्टी बाँधकर जताया विरोध
देश में हो रही साम्प्रदायिक घटनाओं के विरोध में सभी मुस्लिम समुदाय के लोगों ने काली पट्टी बाँधकर ईद की नमाज अदा की। प्राप्त जानकारी के अनुसार पिछले कई समय से देश में मुस्लिम समुदाय के लोगों और उनके धार्मिक स्थलों को निशाना बनाया जाने पर कस्बे के मुस्लिम समुदाय ने आक्रोश प्रकट किया है।


Sufi Ki Kalam Se

8 thoughts on “नाच गाने जैसी सामाजिक कुरीतियों के बंद के आह्वान के साथ मनाई ईद,
काली पट्टी बाँधकर साम्प्रदायिक घटनाओं का जताया विरोध

  1. Pingback: auto swiper

Comments are closed.

error: Content is protected !!