800 करोड़ कमाने वाली पठान फ़िल्म कि समीक्षात्मक कहानी

Sufi Ki Kalam Se

25 जनवरी को रिलीज़ हुए पठान रोज़ाना अपने ही रिकॉर्ड तोड़ती जा रही है । जितना इस फ़िल्म का बॉयकॉट किया जा रहा था ये फ़िल्म उतनी ही कामयाब होती जा रही है
आख़िर क्या वजह है पठान की इस रिकॉर्ड तोड़ सफलता की ? आइये जानते है पठान फ़िल्म की कहानी और समीक्षा जो आजहर तरफ़ छाई हुई है।

विज्ञापन


फ़िल्म की शुरुआत कश्मीर राज्य में हटाई गई धारा 370 से शुरू होती है जिसकी वजह से पड़ोसी देश पाकिस्तान हमेशा की तरह अपने नापाक मंसूबे तैयार कर भारत पर हमला करने की तैयारी करता है और इस काम के लिए चुनता हैं जिम नामक एक ख़तरनाक आदमी को । फ़िल्म में जिम का रोल जॉन अब्राहम ने बड़े ही धाँसू अन्दाज़ में किया है ।जिम एक भारतीय रॉ एजेंट ही था जो अपने ही देश की सरकार द्वारा अपनी फ़ैमिली की मदद नहीं किए जाने से नाराज़ होकर आतंकवादी बन जाता है ।
ज़िम भारत में तबाही मचाने के लिए स्मॉलपॉक्स नामक बीमारी के ख़तरनाक वायरस तैयार कर अपना काम शुरू करता है तब भारतीय सेना के एक्स सोल्जर पठान यानी शाहरुख़ ख़ान उसके इरादों को रोकने के लिए आ खड़ा होता है और फिर शुरू होता है फ़िल्म में घमासान । फ़िल्म में दीपिका पादुकोण ने एक पाकिस्तानी जासूस रुबीना मोहसीना की दमदार भूमिका निभाई है जो पहले तो पठान को धोखा देती है लेकिन बाद में वायरस से इंसानियत को ख़तरे में पड़ते देख पठान का साथ देती है । दीपिका के अलावा डिंपल कपाड़िया और आशुतोष राणा का रोल भी शानदार है जिन्हें भारतीय सेना का प्रतिनिधित्व करते दिखाया गया हैं । इसके अलावा सलमान के कैमियों ने टाइगर की भूमिका में आकर दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया है साथ ही टाइगर 3 में शाहरुख़ के आने का भी वादा लिया है । पठान फ़िल्म ज़बरदस्त एक्शन से भरपूर रोमांच और कॉमेडी ड्रामा है जिसमें हर वर्ग के दर्शकों के लिए मसाला डाला गया है । इस फ़िल्म में पहली बार कई तरह की नयी नयी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके इसे हॉलीवुड लुक देने की कोशिश की गई है जो कामयाब भी रही है । पठान और ज़िमी का हवा में उड़ते हुए फाइट सीन काफ़ी रोमांचित करने वाला है । फ़िल्म के आख़िरी हिस्से में तो दर्शकों की साँसें तक थम जाती है।

फ़िल्म में संगीत की बात करें तो इसमें सिर्फ़ दो गाने है जिसमें से एक तो टाइटल सॉंग है जिसे अंत में दिखाया जाता है उसके अलावा बेशर्म रंग है जिसकी वजह से काफ़ी विवाद हुआ था । अगर विवाद की वजह कपड़े का रंग ना होकर अश्लीलता होता तो ज़्यादा बेहतर होता क्योंकि गाने में बिना वजह इतना अंग प्रदर्शन किया गया है जिसकी कोई ज़रूरत नहीं थी हालाँकि ये मामला केवल इस फ़िल्म का ही नहीं है बल्कि हर हिन्दी फ़िल्म का है जहां बिना मतलब हद से ज़्यादा अंग प्रदर्शन किया जाता है ।
अब बात करते है की देशभक्ति से ओतप्रोत फ़िल्म पठान की कमाई की तो वो तो ज़बर्दस्त है । फ़िल्म ने ओपनिंग डे 57 करोड़ का बिज़नेस कर रिकॉर्ड बनाया और अगले दिन यानी 26 जनवरी को 70 करोड़ कमाकर अपना ही रिकॉर्ड तोड़ दिया । 100 से ज़्यादा देशों में रिलीज़ होने वाली पठान ने वर्ल्डवाइड कलेक्शन जोड़कर अब तक लगभग 800 करोड़ रुपये कमा लिये है जो घाटे में चल रहे बॉलीवुड के लिए बहुत अच्छी खबर है ।


Sufi Ki Kalam Se

2 thoughts on “800 करोड़ कमाने वाली पठान फ़िल्म कि समीक्षात्मक कहानी

Comments are closed.

error: Content is protected !!