शहजाद दीवान इटावा मुस्लिम समाज के सदर निर्वाचित

Sufi Ki Kalam Se

शहजाद दीवान इटावा मुस्लिम समाज के सदर निर्वाचित


रविवार दिनाँक 19/12/2021 को इटावा ईदगाह बाइपास पर मुस्लिम समुदाय की एक बैठक शहर काजी मोलाना इकबाल अंसारी की अध्यक्षता में आयोजित हुई, जिसमें सदर की सर्वसम्मति नहीं बनने पर चुनाव कमेटी ने चुनाव संपन्न करवाए।
सदर पद के लिए पांच लोगों ने दावेदारी पेश की लेकिन तीन लोगों की नाम वापसी के बाद दो उम्मीदवार मैदान मे रहे। सदर पद के लिए शहजाद दीवान और रफीक भाई मिस्त्री के बीच चुनावी प्रक्रिया संपन्न हुई।
चुनाव प्रक्रिया में मुस्लिम समुदाय ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और 571 लोगों ने मतदान किया जिसमें रफीक भाई मिस्त्री को 175 और शहजाद दीवान को 374 वोट मिले। इस दौरान 22 वोट ख़ारिज भी हुए और इसी के साथ शहजाद दीवान ने 199 मतों के साथ ये जीत अपने नाम कर ली।
खजांची पद के लिए रमजानी मोहम्मद लुहार और सेक्रटरी पद के लिए हाजी मुमताज को निर्विरोध चुना गया। चुनाव संपन्न होने के बाद मुस्लिम समाज के लोगों ने नव निर्वाचित कमेटी का जोर शोर से इस्तकबाल किया और कमेटी ने भी लोगों का शुक्रिया अदा करते हुए उनकी उम्मीदों पर खरा उतरने का भरोसा दिलाया।

शहजाद दीवान के बारे में –
8 जुलाई 1972 को इटावा शहर काजी वली मोहम्मद साहब के घर जन्मे शहजाद दीवान तीन भाईयों में सबसे छोटे है। शहजाद दीवान ने इटावा के ही राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय से सीनीयर परीक्षा उत्तीर्ण की। शहजाद दीवान विद्यार्थी जीवन से समाज सेवा से जुड़ गए थे। 1989 मे स्थानीय विधालय को सेकंडरी में कर्मोन्नत कराने के लिए 35 छात्रों के साथ जयपुर का दौर किया और विधालय कर्मोन्नति के बाद ही वापस आए। दीवान की सामाजिक कामों में सक्रियता को देखते हुए अखिल भारतीय कॉंग्रेस कमेटी ने इन्हें 2015 मे इटावा नगर अध्यक्ष निर्वाचित किया जिस पर अभी तक पदस्थापित है। 2018 के विधानसभा चुनावों में वर्तमान कॉंग्रेस विधायक रामनारायण मीना को विजय दिलाने का अहम रोल रहा है।
शहजाद दीवान की कार्यशैली से प्रभावित होकर इटावा के मुस्लिम समाज ने उन्हें एक और नयी जिम्मेदारी देते हुए सुन्नत वल जमात का सदर मनोनीत किया है।


Sufi Ki Kalam Se

3 thoughts on “शहजाद दीवान इटावा मुस्लिम समाज के सदर निर्वाचित

  1. Pingback: gay bdsm málaga

Comments are closed.

error: Content is protected !!