शिक्षा विभाग से सेवानिवृत्त हुए अब्दुल गफूर अंसारी (सीसवाली न्यूज)

Sufi Ki Kalam Se

शिक्षा विभाग से सेवानिवृत्त हुए अब्दुल गफूर अंसारी (सीसवाली न्यूज)
सीसवाली कस्बे के चर्चित मेहनती और ईमानदार शिक्षक अब्दुल गफूर अंसारी मार्च महीने के आखिरी दिन शिक्षा विभाग से सेवानिवृत्त हो गए। 2 मार्च 1962 को स्वतंत्र भारत में पैदा हुए अब्दुल गफूर अंसारी ने अपने 28 साल शिक्षा के क्षेत्र में समर्पित किए। 1 अप्रैल 1994 से शुरू हुआ ये सफर 31 मार्च 2022 को थम गया। अब्दुल गफूर अंसारी का शैक्षणिक सफर, तृतीय श्रेणी शिक्षक के तौर पर बारां जिले के छिपाबडोद ब्लॉक में राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय फीतपुर से प्रारम्भ हुआ। इसके बाद 20 सालो तक अंता ब्लॉक के राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय मांडपुर में अपनी सेवाएं दी।
2018 मे पदोन्नति पाकर उर्दू विषय से द्वितीय श्रेणी अध्यापक बने और मांगरोल के उच्च माध्यमिक विद्यालय में पदस्थापित हुए और यहीं से अब सेवानिवृत्त हो रहे हैं।
इस दौरान शैक्षणिक एंव गैर शैक्षणिक गतिविधियों के अलावा कई तरह के सामाजिक कार्यो में भी सक्रिय भूमिका निभाई। गौरतलब है कि अब्दुल गफूर छात्र जीवन से ही शैक्षणिक और सामाजिक गतिविधियों में सक्रिय रहे हैं। उन्होंने बच्चों को निशुल्क कोचिंग देने के साथ ही सीसवाली कस्बे में एक लाइब्रेरी भी कायम की थी। 2018 में सीसवाली कस्बे में इन्हें अहले जमात ईदगाह कमेटी के सदर के रूप में चुना गया जिस पद पर वर्तमान में भी कार्यरत है।
आज अपनी सेवा के अंतिम दिन अपने कार्यस्थल राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय मांगरोल पहुँचे जहां स्टाफ कर्मियों ने इन्हें ससम्मान विदाई दी। सीसवाली कस्बे के कई शुभचिंतक इन्हें लेने मांगरोल ही पहुँच गए थे।
अब्दुल गफूर अंसारी 4 बजे करीब बस स्टैंड सीसवाली पहुँचे जहां कस्बे वासियों ने इनका जोरदार स्वागत किया। स्वागत के बाद जुलूस के रूप में मुख्य बाजार होते हुए निचली मस्जिद के पास अपने निजी आवास तक पहुँचे। जुलूस में कई शुभचिंतकों ने हिस्सा लिया। जुलूस के बाद मेहमानों को खाना भी खिलाया गया।


Sufi Ki Kalam Se
error: Content is protected !!