डॉ दीपक लाईब्रेरीयन ऑफ दी यीअर” अवार्ड से सम्मानित (कोटा न्यूज़) FHSLA: Librarian of the Year Award-2021

Sufi Ki Kalam Se

FHSLA India honored Next- Gen Future Ready Librarian Dr. Deepak K. Shrivastava by National Level “FHSLA: Librarian of the Year Award-2021”

Honored extraordinary leadership and service within the library community

India’s Top Ten named Next- Gen Librarian Dr. Deepak K. Shrivastava Divisional librarian Government Divisional Public library Kota conferred by “FHSLA: Librarian of the Year Award-2021” by Federation of Health Science Library Association India at 3rd FHSLA National Conference on Harnessing the Digital Space: ” One Nation, One Subscription” Initiative and Medical Librarians Perspective held at AIIMS, Rishikesh on 25-26 November 2022. This Award is given to Dr. Shrivastava by Honorable Health, Education and Co-Operative Minister Respected Shri Dr. Dhan Singh Rawat Government of Uttarakhand (UK), Dr Meenu Singh Executive Director AIIMS Rishikesh, Central Government officials Dr B.Shrinivas, ADG(ME), Government of India & Director, National Medical Library and Ms. Ramya Haridasan, Scientist, Office of the Principal Scientific Advisor etc. Dr. P.R. Meena Country Head FHSLA said that Youth Sensation Dr Shrivastava is honored to demonstrated extraordinary Public Library leadership and service within the library community over the past 12 – 18 months. I hope this award will be inspired to others public library leaders, librarian’s and activist too.

During the early months of the pandemic, Dr Deepak – a longtime digital expert whose buoyant creativity is matched by his strong technical skills – launched into action to help remote readers across from more than 15 Countries i.e. Afghanistan, Bangladesh, Bhutan, India, Iran, Maldives, Nepal, Pakistan, and Sri Lanka, Nigeria, Uganda and UK. Through the use of WhatsApp Initiative Knowledge@yourdoorstep/doorsteps,educational apps, websites, gaming, ambassadorships, badging, and other tools he was able to take her library 100 percent digital very quickly, to benefit her readers as they learned at home. It’s worth mentioning that Future ready librarian Dr. Deepak Shrivastava recently named in IFLA WALL of FAME, Top 75 Library Professionals of The Nation, Top Ten Next-Generation librarian of the India.

उत्तराखण्ड सरकार के स्वास्थ्य , शिक्षा एवं सहकार मंत्री माननीय डॉ धन सिंह रावत ने कोटा पब्लिक लाईब्रेरी के डीविजनल लाईब्रेरीयन डॉ दीपक को एम्स ऋषिकेश में अयोजित तीसरे राष्ट्रीय सम्मेलन मे “एफ.एच.एस.एल.ए : लाईब्रेरीयन ऑफ दी यीअर” अवार्ड से सम्मानित किया ।

शीर्ष 10 भारतीय नेक्सट जनरेशन ट्रेलब्लेजींग पब्लिक लाईब्रेरीयन मे शुमार इनेली साउथ एशिया मेंटर एवं फ्युचर रेडी पब्लिक लाईब्रेरीयन डॉ दीपक कुमार श्रीवास्तव मण्डल पुस्तकालय अध्यक्ष राजकीय सार्वजनिक मण्डल पुस्तकालय कोटा को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश मे आयोजित तीसरे राष्ट्रीय सम्मेलन मे उत्तराखण्ड सरकार के स्वास्थ्य , शिक्षा एवं सहकार मंत्री माननीय डॉ धन सिंह रावत ने “एफ.एच.एस.एल.ए : लाईब्रेरीयन ऑफ दी यीअर” अवार्ड से सम्मानित किया । इस अवसर पर माननीय मंत्री के अलावा एम्स ऋषिकेश की कार्यकारी अधिकारी प्रोफेसर डॉ मीनू सिंह, प्रोफेसर डॉ चतुर्वेदी ,डॉ बी श्रीनिवास अतिरिक्त महानिदेशक , स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार , सुश्री राम्या हरिदसन वेज्ञानिक कार्यालय मुख्य वेज्ञानिक सलाहकार भारत सरकार एवं डॉ पी.आर.मीणा अध्यक्ष फेडरेशन ऑफ हेल्थ सांईस लाईब्रेरी एसोशियेशन भारत मौजुद रहे । फेडरेशन ऑफ हेल्थ साईंस लाईब्रेरी एसोशियेशन भारत के अध्यक्ष डॉ पी.आर .मीणा ने कहा कि- यूथ सेंसेशन डॉ श्रीवास्तव को पिछले 12 - 18 महीनों में पुस्तकालय समुदाय के भीतर असाधारण सार्वजनिक पुस्तकालय नेतृत्व और सेवा प्रदर्शित करने के लिए सम्मानित किया गया है। मुझे उम्मीद है कि यह पुरस्कार अन्य सार्वजनिक पुस्तकालय नेताओं, पुस्तकालयाध्यक्षों और कार्यकर्ताओं को भी प्रेरित करेगा।

कोविड -19 के शुरुआती महीनों के दौरान, डॉ. दीपक के व्हाट्सएप पहल “नोलेजएट य़ोर डॉर स्टेप” के जरिये 15 से अधिक देशों यानी अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, भारत, ईरान के दूरस्थ पाठकों की मदद करने के लिए कार्रवाई में लगे। मालदीव, नेपाल, पाकिस्तान और श्रीलंका, नाइजीरिया, युगांडा और ब्रिटेन मे अध्य्यन सामग्री ऑंलाईन उपलब्ध कराई। व्हाट्सएप इनिशिएटिव नॉलेज @ योरडोरस्टेप / डोरस्टेप्स, एजुकेशनल एप्स, वेबसाइट्स, गेमिंग, एंबेसडरशिप, बैजिंग और अन्य टूल्स के इस्तेमाल से वह अपनी लाइब्रेरी को बहुत जल्दी 100 प्रतिशत डिजिटल बनाने में सक्षम हो गया, जिससे उसके पाठकों को फायदा हुआ, जैसा कि उन्होंने घर पर सीखा था। उल्लेखनीय है डॉ दीपक का नाम विश्व के सबसे बडे पुस्तकालय संगठन इफ्ला “वॉल ऑफ फेम” तथा देश के लब्ध प्रतिष्ठित शीर्ष 75 लाईब्रेरी प्रोफेशनल्स मे शुमार है ।


Sufi Ki Kalam Se

11 thoughts on “डॉ दीपक लाईब्रेरीयन ऑफ दी यीअर” अवार्ड से सम्मानित (कोटा न्यूज़) FHSLA: Librarian of the Year Award-2021

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!