इटावा के जेके सोनी और बीना कुमारी की शैक्षणिक पारी समाप्त
महात्मा गाँधी स्कूल इटावा में एक साथ दो कर्मचारी हुए रिटायर

Sufi Ki Kalam Se

इटावा के जेके सोनी और बीना कुमारी की शैक्षणिक पारी समाप्त
महात्मा गाँधी स्कूल इटावा में एक साथ दो कर्मचारी हुए रिटायर

जुलाई महीने के आखिरी दिन, इटावा के महात्मा गांधी स्कूल में इतिहास विषय के व्याख्याता जुगल किशोर सोनी और सीनियर असिस्टेंट बीना कुमारी का विदाई समारोह मनाया गया।
जुगल किशोर सोनी (व्याख्याता) :-
15 जुलाई 1962 को जन्मे जुगल किशोर सोनी ने 1988 में तृतीय श्रेणी अध्यापक के रूप में लक्ष्मीपुरा, करवाड़ से अपनी शैक्षणिक पारी की शुरुआत की। तत्पश्चात 2015 से लक्ष्मीपुरा प्रथम में द्वितीय श्रेणी शिक्षक के तौर पर अपनी सेवायें दी। अंत में 2016 में कर्मोंन्नत होकर इतिहास व्याख्याता के रूप में इटावा के बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में एक नयी पारी की शुरूआत की जो अब महात्मा गांधी इंग्लिश मीडियम स्कूल में कन्वर्ट हो गया है। इटावा शहर के जाने माने चेहरे और विधालय की बालिकाओं के लोकप्रिय शिक्षक जेके सोनी अब विधालय में एतिहासिक युद्धों की दास्ताँ नहीं सुना सकेंगे।

बीनाकुमारी :- सन् 1992 से 2011 तक श्याम हरि सिंघानिया सैंकड़री स्कूल कोटा में सेवायें देने के बाद सरकार ने इन्हें नियमितीकरण का तोहफा देते हुए स्थानीय विधालय में सीनियर असिस्टेंट के पद पर पदस्थापन किया। सरल स्वभाव की धनी बिना कुमारी ने 2011 से 2022 तक एक ही विधालय में अपनी पूर्ण सेवायें देकर यही से सेवानिवृत्ति पाई।


एक साथ दो कर्माचारियों के सेवानिवृत्ति कार्यक्रम के अवसर पर महात्मा गांधी स्कूल के स्टाफ सहित छात्राएं उपस्थित रही। स्कूल के प्रिन्सिपल मोहम्मद असलम अंसारी ने दोनों कर्मचारियों को शॉल ओढ़ाकर स्मृति चिह्न भेंट करते हुए विदाई भाषण दिया। शिक्षक मनोज मीणा के उद्बोधन और दिनेश वैष्णव की कविता ने उपस्थित लोगों को भावुक कर दिया।
स्थानीय विधालय की छात्राओं ने विदाई गीत गाकर अपने शिक्षको को स्मृति चिन्ह प्रदान किए।
जुगल किशोर सोनी और बीना मैडम ने अपना विदाई भाषण देते हुए शाला परिवार का धन्यवाद अर्पित किया। कार्यक्रम का संचालन रूपनारायण (आर्यन सर) ने किया।
इस अवसर पर दोनों कर्मचारियों के परिवार सहित समस्त स्टाफ उपस्थित रहा।


Sufi Ki Kalam Se
error: Content is protected !!