सम्भागीय आयुर्वेद ने कहा कि टीम भावना से कार्य कर चिकित्सा व्यवस्थाओं का बेहतर उपयोग कर कोरोना को हराना है – दिनेश कुमार यादव (गेस्ट ब्लॉगर अशफ़ाक कायमखानी)

Sufi Ki Kalam Se

सम्भागीय आयुर्वेद ने कहा कि टीम भावना से कार्य कर चिकित्सा व्यवस्थाओं का बेहतर उपयोग कर कोरोना को हराना है।
कोरोना रोकथाम, बचाव तथा चिकित्सा व्यवस्थाओं की समीक्षा जिले में कोरोना रोकथाम के लिए की जा रही है बेहतरीन तैयारियां
गेस्ट ब्लॉगर अशफ़ाक कायमखानी
संभागीय आयुक्त, जयपुर संभाग दिनेश कुमार यादव ने कहा कि वर्तमान में कोरोना संक्रमण को देखते हुए मेडिकल कॉलेज के चिकित्सक, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, नीजी चिकित्सालयों को मिल कर टीम भावना से कार्य करते हुए चिकित्सा उपकरणों एवं संसाधनों का बेहतर उपयोग कर इस आपदा से निपटना होगा।
संभागीय आयुक्त यादव सोमवार को सीकर के श्री कल्याण मेडिकल कॉलेज में कोरोना रोकथाम, बचाव तथा चिकित्सा व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। उन्हाेंने जिले के सरकारी एवं निजी चिकित्सालयों में बैड की व्यवस्था, आक्सरीजन आधारित बैड की व्यवस्था तथा चिकित्सालयों में मेडिसिन की पर्याप्त मात्रा एवं मेडिसिन, ऑक्सीजन की मांग पर भी विस्तार से जानकारी ली। उन्होंने कहा कि चिकित्सा संस्थाओं के अलावा आक्सीजन सप्लाई नहीं करें इसकी प्रभावी रूप से प्रतिदिन मॉनीटरिंग भी की जाये। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों से सीकर जिले में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है जिसकों लेकर राज्य सरकार काफी चिंतित है। जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमितों के केस आने के कारणों एवं भविष्य के लिए की जा रही तैयारी के संबंध में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया गया की जिले में कारोना रोगियों के लिए ऑक्सीजन आर्पूति सुनिश्चित की जाये।


संभागीय आयुक्त यादव ने कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन द्वारा बेहतरीन कार्य करते हुए भविष्य के लिए काफी अच्छी तैयारियां की जा रही है। जिले में ऑक्सीजन आर्पूति मैनेजमेंट भी बहुत अच्छा है और चिकित्सकों द्वारा इस आपदा की घड़ी में अच्छा कार्य किया जा रहा है । उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा जिले में कोरोना संक्रमण से रोकथाम के लिए जारी की गई गाइडलाइन की पालना भी जिले में पुलिस विभाग द्वारा सख्ती से करवाई जा रही है जिसमें लोगों का सहयोग भी मिल रहा है जिससे जल्द ही जिले में बढ़ते संक्रमित मामले नियंत्रण में आएंगे और इनमे कमी भी आएगी।
संभागीय आयुक्त यादव ने जिले के आमजन से कहा कि कोविड अप्रोपिएट बिहेवियर का पालन सख्ती से करें और राज्य सरकार द्वारा राज्य के लोगों को संक्रमण से रोकथाम के लिए लगाई जा रही पाबंदियों की पालना भी अवश्य करें। उन्होंने कहा कि इन पाबंदियों को लगाने के पीछे राज्य सरकार की मंशा है कि संक्रमण की चैन को तोड़ा जा सके और संक्रमण के बढ़ते मामलों में कमी आए। अब धीरे-धीरे संक्रमित केसों में गंभीर स्थिति वाले रोगियों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है ऎसे में अब इन्हें नियंत्रित करने के लिए जरूरी है कि संक्रमण की इस चैन को तोड़ा जाए।
संभागीय आयुक्त यादव ने बताया कि वर्तमान में जिले में ऑक्सीजन की जितनी आवश्यकता है उतनी ऑक्सीजन की आर्पूति कराने के लिए राज्य सरकार से हर संभव प्रयास किये जा रहे है। उन्होंने बताया कि जिले के रींगस कस्बे में जो ऑक्सीजन स्टोरेज उपलब्ध है वहां लिक्विड ऑक्सीजन लाकर सिलेंडर्स को भरने की कार्यवाही जल्द से जल्द शुरू करने की प्रक्रिया की जा रही है जिससे जिले का ऑक्सीजन आर्पूति मैनेजमेंट सिस्टम और भी बेहतर हो सके। उन्होंने मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया कि जिले में ऑक्सीजन की आगामी एक माह की मांग का आंकलन अभी से कर लेवें ताकी समय पर उपलब्धता सुनिश्चित की जा सकेगी। उन्होंने ऑनलाईन टेलीमेडिसन से रोगियों को चिकित्सा परामर्श दिये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि कोरोना रोगी का प्राथमिक उपचार सही हो तो रोगी ऑक्सीजन लेवल तक नहीं पहुंचेगा।
संभागीय आयुक्त यादव ने पुलिस प्रशासन को निर्देश दिये कि जनसुनवाई पखवाड़े के दौरान प्रातः 11 बजे बाद शत प्रतिशत लॉकडाउन की पालना सुनिश्चित करवाई जायें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चिरंजीवी योजना में शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में 30 अप्रेल तक लाभार्थी का पंजीयन करने के कार्य में गति लाई जावें। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए मास्क, सैनेटाईजर की व्यवस्था करवाने के लिए भामाशाओं को प्रेरित किया जाये।
जिला कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी ने बैठक में बताया कि जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए पुख्ता व्यवस्थाएं सुनिश्चित की गई है। मेडिकल, पंचायतराज, राजस्व विभाग की टीम गा्रमीण एवं शहरी क्षेत्र में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए सर्वे कर रही है। कोरोना रोगियों के लिए आक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता रखने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों को नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाकर लगातार मोनिटरिंग की जा रही है। कोविड वार्डों में ऑक्सीजन का उचित उपयोग करने के संबंध में रोगियों को जानकारी देने के लिए फ्लेक्स लगाये गए है कि ऑक्सीजन का उपयोग किस प्रकार करना है। उन्होंने बताया कि जिले में ऑक्सीजन प्लांट स्थािपत करने के लिए करणीराम बजाज ट्रस्ट फाउण्डेशन ने पहल की है जिससे रोगियों को पर्याप्त आक्सीजन की सुविधा मिल सकेगी। उन्होंने बताया कि शिक्षा, पर्यटन एवं देवस्थान राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा के सतत् प्रयासों से मेडिकल आक्सीजन, रेमडेसिविर और अन्य आवश्यक उपकरण, संसाधन जिले को मिल रहे है तथा पर्याप्त आपूर्ति के लिए उच्च स्तर पर लगातार प्रयास कर रहे है।
जिला पुलिस अधीक्षक कुंवर राष्ट्रदीप ने बैठक में जानकारी दी की राज्य सरकार द्वारा घोषित जनसुनवाई पखवाडे़ में शादीयों में गाईड लाईन की पालना करवाने के लिए पुलिस कांस्टेबल को नियुक्त किया गया है। अवेहलना पाए जाने पर चालान की कार्यवाही भी की जा रही है।
बैठक में जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुरेश कुमार, अतिरिक्त जिला कलेक्टर धारासिंह मीणा, यूआईटी सचिव इन्द्रजीत सिंह,सीएमएचओ डॉ. अजय चौधरी, प्राचार्य मेडिकल कॉलेज डॉ. के.के वर्मा,आरसीएचओ निर्मल सिंह, उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सी.पी. ओला, आयुक्त नगर परिषद श्रवण कुमार विश्नाई, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग सहायक निदेशक ओमप्रकाश राहड़, सांवली कोविड़ अस्पताल प्रभारी डॉ. देवेन्द्र दाधीच उपस्थित रहें।
संभागीय आयुक्त ने सांवली डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल, श्री कल्याण चिकित्सालय का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का लिया जायजा ः-
एक दिवसीय दौरे पर सोमवार को सीकर आये संभागीय आयुक्त दिनेश कुमार यादव ने सीकर के सावंली कोविड केयर सेंटर व राजकीय श्री कल्याण अस्पताल का निरीक्षण किया। उन्होंने सावंली कोविड केयर सेंटर में ऑक्सीजन सिलेण्डर भण्डार का निरीक्षण किया तथा कोविड वार्ड में मेल आईसीयू वार्ड में रोगियों को दी जा रही व्यवस्थाओं के बारे में संतोष व्यक्त किया। उन्होंने प्रभारी चिकित्सक से प्रतिरोगी के बेड के पास ऑक्सीजन किस प्रकार पहुंचाई जा रही है की जानकारी प्राप्त की । इसी प्रकार श्री कल्याण चिकित्सालय में भी कोविड वार्डो का निरीक्षण कर रोगियों के लिए ऑक्सीजन बेड़ उपलब्धता एवं अन्य व्यवस्थाओं के संबंध में प्राचार्य मेडिकल कॉलज को निर्देशित किया।
इस दौरान जिला कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुरेश कुमार, अतिरिक्त जिला कलेक्टर धारासिंह मीणा, प्राचार्य मेडिकल कॉलेज डॉ. के.के वर्मा भी साथ थे।


Sufi Ki Kalam Se
error: Content is protected !!