सऊदी अरब मे काम करने वाले शेखावाटी के लाखो मजदूरों पर रोजी रोटी का संकट

Sufi Ki Kalam Se

पहले मंदी फिर कोराना ने खासतौर पर अरब मे मजदूरी करने वालो की कमर तोड़ दी।
शेखावाटी से दस लाख से अधिक लोग अरब देशो मे रहकर दो जून की रोटी के इंतजाम मे लगे हुये थे।
खासतौर पर सऊदी अरब मे पहले 2015 मे मस्जिद अल हरम मे कैन हादसे से बिलादीन कम्पनी के ब्लैक लिस्टेड होना फिर सऊदी ओजार कम्पनी का 2017 मे फैल होना व अब कोराना ने मजदूरों की कमर तोड़ कर रख दी है।
– गेस्ट ब्लॉगर अशफाक कायमखानी
सीकर-राजस्थान।
शेखावाटी जनपद से लाखो मजदूर खासतौर पर अरब मे भवन निर्माण से जुड़ कर मजदूरी करके मुश्किल से अपने बच्चों के लिये दो जून की रोटी का इंतेजाम कर पाते थे। उन लाखो मजदूरों की पहले मंदी ओर अब कोराना महामारी से उपजे हालात ने पूरी तरह कमर तोड़ कर रख दी है। कतर के अलावा अरब के तमाम देशो मे भवन निर्माण व उससे जुड़े काम बंद या फिर मंद पड़े चुके है। कोराना की शुरुआत व उसके बाद मजदूर अरब देशो से अपने वतन आ गये थे। वो मजदूर हवाई जहाज की सुविधा चालू नही रहने के कारण अभी तक वापस विदेश नही जा पाये है। घर पर रहते रहते अधीकांश की वीजा की अवधि भी खत्म हो चुकी है।
दुबई मे पत्रकार रह चुके एक पत्रकार ने बताया कि अरब देशो मे भवन निर्माण व उससे जुड़े काम पहले मंदी व अब कोराना महामारी के कारण बंद से हो चुके है। वहां भवनों पर टू-लेट के बोर्ड लगे हुये नजर आते है।.उधर अरब मे कोराना महामारी के कारण मजदूर कुछ दिन बीना काम के वहीं बैठकर अपना खर्च उठाकर जैसै तैसे थकहार कर वतन आ गये। या फिर जो छुट्टी आया था वो वापस नही जा पाया। 2022 मे कतर मे फुटबॉल वर्ड कप होने के कारण अरब के मात्र कतर मे भवन निर्माण व उससे जुड़े काम चल रहे है। जहां मजदूर को मजदूरी ठीक मिल रही है।
अरब मे शेखावाटी से दस लाख से अधिक मजदूर रहते है। जिनमे से अधिकांश भवन व उससे जुड़े काम से जुड़े हुये थे।सऊदी अरब मे मजदूर केम्पो मे कुछ लोगो ने किराना-जनरल स्टोर भी कर रखे थे। मजदूरों के वापस वतन आने से उनकी दुकान (वकाला) भी बंद हो चुके या लागत अधिक व आमद कम के चलते बंद करने को उन्हें मजबूर होना पड़ा है।
अरब से कमाकर लाने वाले कुछ लोगो ने तो यहां छोटा-मोटा कारोबार जमा लिया तो वो विकट परिस्थिति मे उसमे लगे हुये है। लेकिन अधिकांश ने बच्चों की परवरिश व सामाजिक रीति रिवाज निभाने मे आय से अधिक खर्च कर दिये। कुछ लोगो ने रहने के लिये मकान बनाये तो उनमे से अधीकांश मकानो के रंग रोगन नही हो पा रहे है।कुछ मकान के प्लास्टर व फर्श तक बाकी रहे वो पुरे नही हो पा रहे है। जिनके पुरे हुये उनका मेंटीनेंस नही हो पा रहे है। पहले सऊदी अरब मे हुये क्रैन हादसे के चलते बिलादीन कम्पनी पर पाबंदी लगने से हजारों मजदूर बेरोजगार हो गये थे।
सऊदी अरब मे करीब चालीस साल रोजगार करके आने वाले जवारपुरा खावं के मोहम्मद सरवर खान ने बताया कि अरब मे अब आम मजदूर के के लिये रास्ते ना के बराबर रह गये है। अब टेक्निकल व स्किल्ड मजदूरों के लिये जरुर आगे चलकर रास्ते बन सकते है। उन्होंने बताया कि जब वो सऊदी मे रहते थे तब मकान किराये पर मिलना मुश्किल व महंगा था। लेकिन अब सस्ती दर पर अच्छी लोकेशन पर किराये पर मकान मिलना आसान है। वहा मकानो पर टू बी रेंट का बोर्ड लटके मिलेगे। उन्होने बताया कि वहा पहले मस्जिद अल हरम मे 11 सितंबर 2015 को क्रैन गिरने से करीब 111 लोगो के मरने की घटना से बिलादीन कम्पनी का फैल होना। इसी तरह सऊदी ओजर कम्पनी का फैल होना फिर आये कोराना काल ने सबको हिलाकर रख दिया है। कोराना मे वतन आये लोगो का पैसा काफी उलझा हुवा है। जो कम्पनी मे मजदूर काम करते थे उनका पैसा तो कोशिश करने से चाहे देर से लेकिन पैसा आ सकता है। लेकिन जो कफिल के मार्फत मजदूरी करते थे उनका पैसा आना जरा मुश्किल बताया। इसी तरह दुबई मे काम करने वाले सीकर के मतलूब फारुकी ने वहां के मजदूरों के बिगड़े हालात बताये। वहा भवन निर्माण व उससे जुड़े काम ना के बराबर है। कम्पनी मे काम नही होने के कारण उन्हें भी बीना वीजा के वापस भारत लोटना पड़ा है।
इस तरह बेरोजगार हुये काफी लोगो मे से कुछ लोग नरेगा मजदूर बनने के लिये मजबूर हो गये है। तो कुछ लोग मुर्गी व बकरा पालन का काम किया लेकिन एकसपिरियंस की कमी के कारण जमा पूंजी भी गवां बेठे है। जिनके बीघा दो पांच बीघा जमीन थी, उसमे फिर से खेती करने लगे व करने का मानस बना रहे है।
कुल मिलाकर यह है कि पहले विश्वव्यापी मंदी फिर मंहगाई ओर पीछले साल से कोराना महामारी के भंयकर प्रकोप के चलते शेखावाटी जनपद से अरब देशो मे रहने वाले लाखो मजदूर बेरोजगार हो चुके है। विदेश मे बेठै मजदूरों के पास काम नही है। जो यहा वतन आ गये वो कम्पनी या अपने अरबाब (मालिक) से हिसाब लेने तक नही जा पाये है। ऐसे लोगो की हालत बहुत दयनीय होती दिख रही है। पहले मंदी फिर, 11-सितम्बर 2015 मे मस्जिद अल हरम मे क्रैन हादसे के बाद बिलादीन कम्पनी का ब्लैक लिस्टेड होना, 2017 मे सऊदी ओजर कम्पनी का फैल होना ओर अब कोराना व ऊपर से आसमान छूती महंगाई ने पूरी तरह कमर तोड़ कर रखदी है।


Sufi Ki Kalam Se

2 thoughts on “सऊदी अरब मे काम करने वाले शेखावाटी के लाखो मजदूरों पर रोजी रोटी का संकट

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!