सांसद हनुमान बेनीवाल के चारो उपचुनाव वाली सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े करने की घोषणा से राजनीति गरमाई (गेस्ट ब्लॉगर अशफ़ाक कायमखानी का ब्लॉग)

Sufi Ki Kalam Se

सांसद हनुमान बेनीवाल के चारो उपचुनाव वाली सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े करने की घोषणा से राजनीति गरमाई।
गेस्ट ब्लॉगर अशफ़ाक कायमखानी का ब्लॉग जयपुर


हालांकि राजस्थान मे होने वाले चार विधानसभा उपचुनावो की तिथि की घोषणा अभी तक नही हुई है। लेकिन राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के नेता सांसद हनुमान बेनीवाल द्वारा आज प्रैस कांफ्रेंस करके चारो उपचुनाव वाली सीटो पर अपने उम्मीदवार खड़े करने की घोषणा करने से भाजपा व कांग्रेस मे बैचेनी पैदा करने के साथ दो दलीय व्यवस्था की कायम राजनीति को गरमा कर अपने को तीसरे विकल्पके तौर पर पैश करके नई हलचल पैदा कर दी है।
कृषि सम्बंधित तीन काले काननूनो को लेकर हाल ही मे एनडीए से अलग होने वाले सांसद हनुमान बेनीवाल ने कांग्रेस व भाजपा पर मिलीभगत का आरोप लगाते हुये उनपर जमकर प्रहार करते हुये मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर भी जमकर शब्द बाण चलाये। राज्य व केंद्र सरकार पर मिलीभगत का आरोप लगाते हुये कहा कि दोनो ही सरकारों ने पेट्रोल व डीजल को राजस्व का मुख्य जरीया बना रखा है। दोनो सरकारों द्वारा मिलकर पेट्रोल डीजल पर बेतहाशा कर लगाकर कीमतें बढाकर जनता को लूट रहे है।
बेनीवाल द्वारा अपनी पार्टी को सभी तबको की पसंद बताते हुये कहा कि राजस्थान मे उनके तीन विधायक है। जिनमे से दो विधायक अनुसूचित जाती से तालूक रखते है। जो दोनो आरक्षित सीट से चुनाव जीत कर आये है। बेनीवाल ने मतदाताओं के सामने अपनी पार्टी रालोपा को तीसरे विकल्प के तौर पर पैश करने को कहा। उन्होंने कहा कि सतर साल पुरानी कांग्रेस व इकतालीस साल पुरानी पार्टी भाजपा के मुकाबले उनकी दो साल पुरानी पार्टी रालोपा अच्छा काम व कामयाबी पा रही है। जाट बिरादरी से ताल्लुक रखने वाले सांसद बेनीवाल का खास तौर पर जाट बेल्ट मे खासा प्रभाव है। उपचुनाव होने वाली चार विधानसभा सीटो मे से तीन सीट सहाड़ा, राजसमंद व सुजानगढ़ मे जाट मतदाताओं की तादाद अच्छी है। वही दलित व मुस्लिम मतदाता भी यहां पर बडी तादाद मे है। राजनीति के जानकार बताते है कि बेनीवाल जयभीम व जयमीम के साथ जय तेजाजी का गठबंधन बनाने मे जरा भी सफल हुये तो वो कांग्रेस व भाजपा के सामने कड़ी चुनौती पैस करने मे कामयाब रहेंगे।
कुल मिलाकर यह है कि सहाड़ा से कांग्रेस विधायक कैलाश त्रिवेदी, बल्लबगढ़ से कांग्रेस के विधायक गजेन्द्र शक्तावत, सुजानगढ़ से कांग्रेस विधायक भंवरलाल मेघवाल व राजसमंद से भाजपा विधायक किरण महेश्वरी के निधन से खाली हुई सीटो पर उपचुनाव होने है। चारो जगह पहले भाजपा व कांग्रेस मे सीधी टक्कर होने की सम्भावना आज से पहले मानकर चल रहे थे। लेकिन आज बेनीवाल द्वारा चारो सीटो पर अपने उम्मीदवार खड़े करने की घोषणा करने से राजनीति को गरमा दिया है।

गेस्ट ब्लॉगर अशफ़ाक कायमखानी का ब्लॉग


Sufi Ki Kalam Se
error: Content is protected !!