मोब लिंन्चिग सहित कई महत्तवपूर्ण मुद्दो पर पायलट से मिला मुस्लिम प्रतिनिधि मंडल (गेस्ट ब्लॉगर अशफ़ाक कायमखानी)

Sufi Ki Kalam Se

राजस्थान के मुस्लिम समुदाय का एक प्रतिनिधिमंडल पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट से मिलकर हाईकमान तक उनकी बात पहुंचाने की अपील की।
गेस्ट ब्लॉगर अशफाक कायमखानी
जयपुर।
प्रदेश मे लगातार होती मोबलिंचनिंग पर सरकारी स्तर पर ठोस कार्यवाही नही होने व सरकारी मनोनयन सहित विभिन्न स्तर पर सरकार द्वारा समुदाय की उपेक्षा करने के अलावा समुदाय समबन्धित बोर्ड-निगम व आयोगो का अभी तक गठन नही होने सहित अनेक मुद्दों को लेकर पूर्व उप मुख्यमंत्री व कांग्रेस नेता सचिन पायलट से उनके निवास पर राजस्थान के मुस्लिम समुदाय का एक प्रतिनिधि मंडल मिलकर पार्टी हाईकमान तक उनकी बात पहुंचाने की उनसें अपील की।
राजस्थान के मुस्लिम समुदाय के विभिन्न क्षेत्र के माहिर सेंकड़ो लोगो के सचिन पायलट से मिले एक प्रतिनिधिमंडल ने पायलट को खुले अंदाज व खुशनुमा माहोल मे अपनी बाते रखने व शंकाएं जाहिर करने पर पायलट द्वारा उनकी बात सूनकर उनको ऊपर तक पहुंचाने का वादा करने पर उपस्थित लोग उनके आश्वासन के प्रति आश्वस्त नजर आये।
वक्ताओं ने कहा कि मुख्यमंत्री लम्बे अर्से से कोराना के बहाने अपने निवास पर रहने से उनसे मिलकर अपने दर्द की बात रखना मुश्किल हो गया है। एक तरह से उनके लिये मुख्यमंत्री के सरकारी आवास की इंट्री बंद सी हो गई है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री केवल अपना पद बचाने मे लगे है। वक्ताओं ने सरकार गठन से लेकर अबतक के विभिन्न संवैधानिक पदो पर मुस्लिम समुदाय को प्रतिनिधित्व नही देने का दुखड़ा भी सूनाया।अभी तक समुदाय समबन्धित बोर्ड-निगम व आयोग का गठन तक नही होना अफसोसजनक बताया।
उर्दू ऐकेडमी के पूर्व अध्यक्ष हबीबुर्रहमान नियाजी ने सरकार गठन से लेकर अबतक सरकारी स्तर पर समुदाय की उपेक्षा का सीलसीले वार जीक्र करते हुये कहा कि अब फरियाद लेकर मुख्यमंत्री निवास तक जाना मुश्किल हो चुका है। उर्दू शिक्षक संघ के अध्यक्ष आमीन कायमखानी ने सरकार द्वारा मदरसा तालीम व उर्दू भाषा को खत्म करने की सरकारी नीति पर खुलकर विचार व्यक्त किये। आमीन ने मदरसा पैरा टीचर्स को कांग्रेस घोषणा पत्र मे किये वादे के अनुसार अभी तक स्थायी नही करने पर चींता जताई। वक्ताओं ने प्रदेश मे मुसलमानों के साथ हो रही मोबलिंचनिंग व हर स्तर पर नाइंसाफी के खिलाफ ठोस कार्यवाही नही होने का मुद्दा भी उठाया गया। प्रतिनिधि मण्डल मे आई महिलाओं ने अपनी बात रखते हुये राजस्थान की कांग्रेस सरकार की नीति पर सवाल खड़े किये।
वक्ताओं ने सरकार की नीतियों व मुख्यमंत्री की कार्यशैली से मुस्लिम समुदाय मे पनप रहे असंतोष के चलते आगे चलकर खासतौर पर युवाओं का एआईएमआईएम की तरफ आकर्षित होकर सांसद असदुद्दीन आवेसी के साथ जुड़कर राजस्थान मे राजनीति करने के सम्भावित खतरे की तरफ भी इशारा भी किया।
ज्ञात रहे कि राजस्थान मे कांग्रेस सरकार के गठन से लेकर अबतक न्यायालय मे अतिरिक्त महाधिवक्ताओ के मनोनयन, राजस्थान पब्लिक सर्विस कमिशन, कर्मचारी चयन आयोग, लोकायुक्त, सुचना आयुक्त, मानवाधिकार आयोग सहित अनेक संवैधानिक पदो मे मुस्लिम प्रतिनिधित्व को नकारा गया है।
सचिन पायलट से मिले प्रतिनिधि मण्डल की खासियत यह थी कि उसमे राजनीति से जुड़े लोगो के मुकाबले समुदाय के सामाजिक वर्कर, हिन्दी-अंग्रेजी व उर्दू भाषा के पत्रकार व धार्मिक विद्वान अधिक नजर आये। अच्छी तालीमयाफ्ता महिलाओं की तादाद भी ठीक ठाक थी।


Sufi Ki Kalam Se

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!