न्याय की कुर्सी पर बैठकर उसे बेचने वाले RAS बी एल मेहरडा व सुनील शर्मा के घर एसीबी ने लाखो रोकड़ी पकड़ी (गेस्ट ब्लॉगर अशफाक कायमखानी)

Sufi Ki Kalam Se

न्याय की कुर्सी पर बैठकर उसे बेचने वाले राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी बी एल मेहरडा व सुनील शर्मा के घर एसीबी ने लाखो रोकड़ी पकड़ी।
कुछ महीनो से इन अधिकारियों सहित दलाल पर एसीबी नजर रखे हुये थी


गेस्ट ब्लॉगर अशफाक कायमखानी
राजस्थान मे राजस्व मामलो की सबसे बडी अदालत राजस्थान राजस्व मंडल मे न्याय की कुर्सी पर बैठकर न्याय करने की जिम्मेदारी लेने वाले राजस्थान प्रशासनिक सेवा के दो अधिकारी बतौर सदस्य बी एल मेहरडा व सुनील शर्मा सहित उनके एक दलाल के घर एसीबी द्वारा रेड करने पर उनके घरो पर लाखो की नकदी मिलने के बाद राजस्थान मे एसीबी द्वारा भ्रष्टाचारियो पर लगातार शिकंजा कसने की कड़ी मे एक ओर बडी मछलियों के फंसने की चर्चा आम आदमी की जबान पर है।
राजस्थान प्रशासनिक सेवा के 1994 बेच की अधिकारी सुनील शर्मा व 1996 बेच के अधिकारी बी एल मेहरडा जो राजस्व मंडल के सदस्य की हैसियत से न्याय की कुर्सी पर बैठकर वहां पर वकालत करने वाले दलाल शशिकांत के मार्फत उनके द्वारा न्याय बेचने की खबरे पिछले कुछ दिनो से मिलने के बाद एसीबी ने उन पर नजर रखना शुरू किया था। इसी सीलसीले मे पुख्ता खबर के बाद एसीबी ने दोनो अधिकारियों सहित दलाल शशिकांत के जयपुर व अजमेर स्थित घरो पर रेड करके लाखो रुपयो की नकदी व जमीन जायदाद के कागज सहित लाखो के सोने-चांदी के जेवर पकड़े है। जिसमे मेहरडा के घर करीब चालीस लाख व शशिकांत के घर इकवान लाख की नकदी पकड़े जाने की खबर के साथ जांच जारी है। उक्त अधिकारियों के साथ साथ राजस्व मंडल के अध्यक्ष की भूमिका को संदिग्ध मानते हुये एसीबी ने राजस्व मंडल के दफ्तर को भी सील कर दिया है। बताते है कि दलाल हर मामले मे बोली लगाकर जो पार्टी ऊंची बोली लगाकर बडी रकम देता था उसी पार्टी के हक मे इन अधिकारियों से जजमेंट करवा लेता था।साथ ही कहते है कि दलाल अपनी पसंद की बैंच बनवा कर अपने हिसाब के जजमेंट करवाने के लिये प्रसिद्ध हो चुका था। जिसके चलते उसके पास मामलो की भीड़ लगने लगी थी।


………. एसीबी के एडीजी दिनेश एम एन ने बताया कि दलाल शशिकांत उक्त अधिकारियों की दलाली करता था। वो अनेक दफा सम्बंधित पार्टी को पहले जजमेंट लिखकर दिखाता ओर फिर उसी तरह का जजमेंट उक्त अधिकारियों से करवा लेता था। दोनो सदस्यों के अधीकांश जजमेंट मे दलाल की भूमिका रहती थी। एसीबी डीजी बी एल सोनी व एडीजी दिनेश एम एन के नेतृत्व मे राजस्थान मे भ्रष्टाचार को पनपाने वाली छोटी मछलियों के अतिरिक्त बडी बडी मछलियों को भी पकड़ा है। पीछले तीन महिने मे राजस्थान प्रशासनिक सेवा के छ अधिकारियों को पकड़ा है इसके अतिरिक्त तीन आएएस, एक आईपीएस, आठ आरपीएस, चार आईआरएस व कुल दस आरएएस अधिकारियों को पकड़ा है।
कुल मिलाकर यह है कि राजस्थान एसीबी ने प्रदेश मे भ्रष्टाचार के मार्फत जड़े खोखली करने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों सहित दलालों को पकड़ने मे कामयाब होने के बावजूद भ्रष्टाचारियो ने भ्रष्टाचार करना छोड़ा नही है। लगातार रोजाना भ्रष्टाचार करते भ्रष्टाचारी पकड़े जा रहे है। राजस्व मंडल के दो सदस्यों के पकड़े जाने के साथ साथ अध्यक्ष की भूमिका सदिग्ध होना न्याय प्रक्रिया का खोखला पन साबित होता नजर आ रहा है।


Sufi Ki Kalam Se
error: Content is protected !!