केवल फिल्मों में नहीं जोंबी हमारे देश में भी होते है.

Sufi Ki Kalam Se

केवल फिल्मों में नहीं जोंबी हमारे देश में भी होते है…

मुसलमान औरतों के बलात्कार की गुहार,वो क्या पहने इसपे ज्ञान, क्या खाएँ ये बताना ,मस्जिदों के सामने अभद्र नारे लगाना, तोड़ फोड़, भगवा झंडा लहराना, मुसलमान को घर से निकाल के मारना और घर पर आग लगा देना, जेसीबी से उनके घर तबाह कर देना।
जिन भगवान राम के नाम पर ये सब क्लेश मचाया जा रहा है, वो राम अपने घर को क्लेश और मनमुटाव से दूर रखने के लिए चौदह साल वनवास स्वयं चले गए थे। उन मर्यादापुरुषोत्तम के सच्चे अनुयाई किसी की आस्था, धर्म, मकान दुकान, जान और इज्जत को नुकसान नहीं पहुंचा सकते। ये भगवा आतंकी कभी राम भक्त नहीं हो सकते। ये लोग मस्जिद पर भगवा लगा कर के खुद को शेर समझते हैं, मुस्लिम महिलाओं के बलात्कार की बात करते हैं। इन्हें लगता होगा ऐसा करने से हिंदू धर्म महान होगा? भगवान राम प्रसन्न होंगे?? अरे मूर्खो इतिहास तुमको कायर कहेगा, और इस हिंदू धर्म पर सिर्फ तुम एक बदनुमा दाग लगा रहे हो।

याद रखो सत्ता आई है और चली भी जाएगी, लेकिन ये धर्म हमेशा रहेगा और इसपर जो तुम बदनुमा दाग लगा रहे हो, यह कभी नहीं मिटेगा। इंसान बन जाओ , नेता के बेटे कभी नहीं चढ़ेंगे मस्जिदों पर भगवा लहराने, वे आराम से किसी बड़े स्कूल में विदेश में पढ़ रहे हैं, या अमित शाह के बेटे की तरक्की देख लो,यहां तुम जानवर बने हुए हो और जय शाह मुस्लिम देशों के कारोबार और तरक्की कर रहा है। उसे तो कोई प्रॉब्लम नहीं मुस्लिमों से। लेकिन तुम देखो कि इनके बहकावे में आकर किस तरह जोंबी (जिंदा लाश) बन गए हो।
इस पागलपन से इस देश से मुसलमान तो खत्म नहीं होंगे, तो बैर बढ़ाकर क्या फायदा, थोड़ा प्यार बांट लो , प्यार किसे पसंद नहीं..

इंसानों को सर्वश्रेष्ठ कहा गया है क्योंकि इसके पास खुद से सोचने समझने की शक्ति होती है, इसलिए इंसान बन जाओ , जानवर भी तुमसे बेहतर होते हैं।

गेस्ट ब्लॉगर फरहान इसराइली


Sufi Ki Kalam Se
error: Content is protected !!