भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री बने हुसैन पठान, गेस्ट रिपोर्टर फिरोज़ खान की खबर

Sufi Ki Kalam Se

भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री बने हुसैन पठान
*************************
कार्यकर्ताओं ने खुशी का इजहार किया|
सांसद व प्रदेश एवं जिले के पदाधिकारियों का आभार जताया
कर्मठ सिपाही की तरह संगठन हित में काम करता रहूंगा: पठान


गेस्ट रिपोर्टर फिरोज़ खान की खबर
बारां 25 फरवरी | भारतीय जनता पार्टी राजस्थान अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री पद पर अंता बालदड़ा निवासी हुसैन पठान को नियुक्त करने पर जिलेभर के कार्यकर्ताओं ने खुशी का इजहार किया है|
अपनी नियुक्ति पर अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री हुसैन पठान ने पार्टी एवं संगठन की रीत नीति में विश्वास प्रकट करते हुए कहा है कि मैं हमेशा कर्मठ सिपाही की तरह संगठन के हित में काम करता रहूंगा |
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार द्वारा किए गए जन कल्याणकारी कार्यो के निर्णयो को आमजन के बीच पहुंचाने में अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रत्येक कार्यकर्ता की भूमिका सकारात्मक रहेगी| मोर्चा कार्यकर्ता राष्ट्रवादी सोच रखते हुए राष्ट्र निर्माण में हमेशा अपना सहयोग देते रहेंगे|
पठान ने उनकी नियुक्ति पर पूर्व मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे एवं सांसद दुष्यंत सिंह , प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया एवं अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष एम. सादिक खान तथा अजमेर दरगाह कमेटी के चेयरमैन आमीन पठान, मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मजीद मलिक कमांडो, प्रदेश महामंत्री हमीद खान मेवाती एवं जिलाध्यक्ष जगदीश मीणा का आभार व्यक्त किया है|
मीडिया विभाग के जिला प्रमुख राजेंद्र शर्मा एवं शहर प्रवक्ता सचिन सनाढ्य ने बताया कि बारां -झालावाड़ एवं बूंदी और सवाई माधोपुर जिले से केवल हुसैन पठान को प्रदेश की टीम में जिम्मेदारी मिलना क्षेत्र के लिए गौरव की बात है |
भाजपा जिलाध्यक्ष जगदीश मीणा ने कहा कि हुसेैन पठान दो बार पूर्व में भी जिला उपाध्यक्ष व महामंत्री रह चुके हैं तथा वर्तमान में बारां जिला वक्फ बोर्ड के चेयरमैन है | संगठनात्मक दृष्टि से पठान की कार्यप्रणाली बेहतर रही है|
हुसैन पठान की नियुक्ति पर राजस्थान राज्य वरिष्ठ नागरिक कल्याण बोर्ड के पूर्व चेयरमैन प्रेम नारायण गालव, पूर्व मंत्री एवं छबड़ा विधायक प्रताप सिंह सिंघवी, पूर्व मंत्री प्रभुलाल सैनी व बाबूलाल वर्मा ,प्रदेश उपाध्यक्ष हेमराज मीणा, पूर्व जिला प्रमुख नंदलाल सुमन व सारिका सिंह चौहान, पूर्व विधायक ललित मीणा एवं पूर्व जिलाध्यक्ष चंद्रप्रकाश विजय ,आनंद गर्ग ,नरेशसिंह सिकरवार ,राजेंद्र नागर, पूर्व चेयरमैन यशभानु जैन व रामस्वरुप यादव, जिला महामंत्री ब्रहमानंद शर्मा ,हरगोविंद जैन, रामपाल मेघवाल, जिला उपाध्यक्ष सुरेंद्र गालव, निर्मल माथोड़िया , राकेश जैन ,गोविंद सिंह चौहान ,बारां शहर अध्यक्ष महावीर नामा, एस सी मोर्चा जिलाध्यक्ष राधेश्याम बेरवा एवं एस टी मोर्चा जिलाध्यक्ष प्रमोद मीणा, ओ बी सी मोर्चा जिलाध्यक्ष ओम चक्रवर्ती मिथुन, किसान मोर्चा जिलाध्यक्ष रामलाल मेहता व जिला महामंत्री सत्येंद्र सिंह केदाहेड़ी, युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष मुकेश केरवालिया, आई टी सेल के पूर्व जिला संयोजक बद्री प्रसाद मेघवाल, अल्पसंख्यक मोर्चा जिलाध्यक्ष मोहम्मद अशफाक, हज कमेटी चेयरमैन माजिद सलीम ,मदरसा बोर्ड के पूर्व चेयरमैन बुंदू मंसूरी ,मकसूद अली, पूर्व अध्यक्ष मोहम्मद अशफाक भाई (मांगरोल), माजिद राही (छबड़ा), आबिद शेख ( केलवाड़ा ) तथा सईद अंसारी, इकबाल नेता ,अल्ताफ हुसैन, इकबाल रीगल, पप्पू नेता ,मुन्ना पठान ,असलम मंसूरी ,डॉ.सागीर, अब्दुल कलाम, उमर वेल्डर, शहजाद खान ,स्माइल पटेल, तनवीर खान अंता, फरीद पठान, रफीक भाई, अब्दुल सलाम कादरी, सलीम बेग, आसिफ मंसूरी ,कमरुद्दीन मंसूरी एवं इदरीश भाई टेलर, मांगरोल मंडल अध्यक्ष डॉ हमीद, अंसारी, अंता देहात अध्यक्ष अल्ताफ हुसैन अंसारी व शहर अध्यक्ष मोहम्मद अशफाक, सीसवाली अध्यक्ष अन्नू टेलर , बारां शहर अध्यक्ष गयासुद्दीन सप्पू, नाहरगढ़ अध्यक्ष अखलाख खान, अटरु अध्यक्ष कमरुद्दीन मंसूरी, शाहाबाद अध्यक्ष आसिफ मंसूरी, केलवाडा अध्यक्ष ताहिर खान सहित जिले भर के भाजपा कार्यकर्ताओं व मुस्लिम तंजीमो( मुस्लिम संगठनों ) सहित इत्यादि ने खुशी का इजहार किया है|

गेस्ट रिपोर्टर फिरोज़ खान की खबर


Sufi Ki Kalam Se

2 thoughts on “भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री बने हुसैन पठान, गेस्ट रिपोर्टर फिरोज़ खान की खबर

  1. Căderea părului în timpul menopauzei. În timpul menopauzei,
    nivelul de hormoni feminini (estrogen) scade.
    În consecință, crește influența hormonilor masculini (testosteron) asupra rădăcinilor firelor
    de păr. Aceasta poate scurta fazele de creștere ale părului.
    Alopecia androgenetică poate cauza rărirea părului mai ales în.

  2. Öğretmen olmak isteyenlerin, liseden mezun olduktan sonra,
    ÖSYM’nin (Öğrenci Seçme Ve Yerleştirme Merkezi) açmış olduğu TYT
    ve AYT sınavlarına girip başarılı olmaları, tercih sonucunda vakıf
    üniversiteleri, özel üniversiteler ya da devlet
    üniversitelerinin ve eğitim fakültesine gitmeleri, akabinde buradan mezun olmaları gerekiyor.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!