राजस्थान सरकार से हताश होकर, इमरान प्रतापगढ़ी से उम्मीद लगाए, दिल्ली पहुंचे मदरसा पैराटीचर्स

Sufi Ki Kalam Se

राजस्थान सरकार से हताश होकर, इमरान प्रतापगढ़ी से उम्मीद लगाए, दिल्ली पहुंचे मदरसा पैराटीचर्स
बरसों से नियमित होने का सपना संजोए बैठे राजस्थान के मदरसा पैराटीचर्स ने राज्य सरकार की कार्यप्रणाली से नाखुश होकर दिल्ली का रुख कर लिया है। राज्य के समस्त पैराटीचर्स, हाल ही में बने नवनियुक्त कॉंग्रेस अल्पसंख्यक के राष्ट्रीय अध्यक्ष इमरान प्रतापगढ़ी से उम्मीद लगाए दिल्ली जा पहुँचे हैं।
शायर से नेता बने इमरान प्रतापगढ़ी ने जबसे यह पद सम्भाला है तबसे लगातार उनकी राजनीतिक मुलाकातों का सिलसिला सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। उनकी सोशल मीडिया कवरेज देखते हुए राजस्थान के मदरसा पैराटीचर्स को उनमें एक उम्मीद नजर आई है इसलिए उन्होंने इमरान प्रतापगढ़ी के माध्यम से अपनी बात कॉंग्रेस के आलाकमान तक पहुंचाने के लिए उन्हें चुना है। चूँकि इमरान प्रतापगढ़ी अल्पसंख्यक समुदाय के पीड़ित तबके के लिए हमेशा दर्द रखते हैं और उनकी हर सम्भव मदद का प्रयास करते हैं। उनकी इसी तरह की कार्यशैली से प्रभावित होकर पैराटीचर्स ने उनका दरवाजा खटखटाया है।
रविवार रात को राजस्थान के विभिन्न स्थानों से पैराटीचर्स का जत्था दिल्ली के लिए रवाना हुआ। सोमवार के दिन तय समय पर इमरान प्रतापगढ़ी ने पैराटीचर्स से मुलाकात कर उनकी समस्याओं को सुना और एक नेता की तरह उनके समाधान करने का आश्वासन भी दिया। आश्वासन देते हुए इमरान ने कहा कि मुझे आपके मामले का संज्ञान है। कुछ महीने पहले निकली शमशेर खान भालू की दांडी यात्रा वाले प्रकरण से वाकिफ़ हूँ। ईद के बाद राजस्थान दौरे पर आऊंगा तब शिक्षा मंत्री और मुख्यमंत्री से इस संबन्ध में बात करूंगा।
मागंरोल कस्बे से गए एक उभरते शायर आरिफ काजी मे इमरान प्रतापगढ़ी को एक ह्रदयस्पर्शी नज्म पेश की जिसे इमरान ने सहर्ष स्वीकार कर सकारात्मक प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इंशाअल्लाह यह इमरान आपको मायूस नहीं करेगा।


राजस्थान मदरसा पैराटीचर संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष हैदर अली अंसारी ने बताया कि जिस अंदाज मे इमरान साहब ने मुलाकात की और जिस तरह हमे भरोसा दिया कि मे खुद निजी रूप से आपकी माँगों को लेकर मुख्यमंत्री महोदय, गोविंद सिंह डोटासरा (प्रदेश अध्यक्ष) राजस्थान कॉंग्रेस से मुलाकात कर चर्चा करूंगा और निश्चित रूप से आपकी माँगों को पूरा करवा कर आपके भरोसे को कायम रखूँगा, साथ ही राजस्थान मे अल्पसंख्यक समाज के और मुद्दो को जानने के लिए प्रदेश का दौरा करूंगा। इस आश्वासन से संगठन को उम्मीद हे कि इमरान भाई निश्चित रूप से हमारी भावना को समझेंगे।


राजस्थान मदरसा शिक्षा सहयोगी संघ के प्रदेशाध्यक्ष आजम खान पठान ने बताया कि इमरान प्रतापगढी के साथ हुई शिष्टाचार भेंट बहुत ही गर्मजोशी के साथ उम्मीदों भरी रही। उन्होंने बताया कि ज्ञापन में विभिन्न मांगे की गई है जिनमें मदरसा पैराटीचर्स को चुनावी घोषण पत्र-2018 के अन्तर्गत किये गए वादे अनुसार नियमित किया जायें, इनके सेवा नियम तुरंत प्रभाव से लागु करायें, मदरसा शिक्षा सहायक 2013 के 6000 पदों पर जल्द से जल्द मेरीट लिस्ट निकाल कर नियुक्ति प्रदान करायें, मदरसा शिक्षा सहयोगी जो कि स्वयं के गृह जिले से बाहर अन्य जिलों के लगे हुए है उनको स्वयं के जिले में रिक्त पदों पर समायोजित किया जायें, मदरसा पैराटीचर्स का मानदेय बढ़ाने एवं इन्हें तृतीया श्रेणी शिक्षक के समान करने, वार्षिक मानदेय वृद्धि 400रू जो 2020 व 2021 तुरंत प्रभाव से जारी करवाने का कष्ट करावें।


ये मदरसा पैराटीचर्स वर्ष भर शिक्षण कार्य के साथ-साथ पोषाहार से लेकर बीएलओ, चुनावी ड्यूटी आदि कई सरकारी कार्यो को अंजाम दे रहे है। ये ज्ञापन इमरान प्रतापगढी सहित आॅल इण्डिय कांग्रेस कमेटी की राष्ट्रीय अध्यक्षा सोनिया गांधी एवं राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को भी भिजवाये गये।


Sufi Ki Kalam Se
error: Content is protected !!