खून से खत लिखने को मजबूर हुए राजस्थान के संविदाकर्मी (गेस्ट रिपोर्टर बशीर शाह साईं पाटौदी)

Sufi Ki Kalam Se

खून से लिखा खत नियमितीकरण की है मांग
मदरसा पैरा टीचरों ने ज़ाहिर की अपनी पीड़ा।
जयपुर/पाटोदी
राजस्थान भर के मदरसा पैराटीचर,राजीव गांधी पैरा टीचर्स, शिक्षाकर्मीयो का आज 15वें दिन भी धरना जयपुर स्थित शहीद स्मारक में जारी रहा। इस दौरान इन अनियमितशिक्षकों द्वारा आज अपने खून से कॉन्ग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी और राहुल गांधी को खून से पत्र लिखकर राजस्थान सरकार से नियमितीकरण की मांग की। उन्होंने पत्र में बताया की चुनाव के वक्त राजस्थान मेंकांग्रेस के जन् घोषणा पत्र में यह स्पष्ट तौर पर लिखा गया था की इन संविदा कर्मियों को सरकार जल्द ही नियमितीकरण का तोहफा देगी। राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बावजूद भी 3 सालों के बाद भी आज भी राजीव गांधी मदरसा पैराटीचर शिक्षाकर्मी अपने नियमितीकरण की मांग पर दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं सरकार के इस शोषण से तंग आकर 15 अक्टूबर से यह संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले धरने पर बैठे। यही नहीं 23 अक्टूबर से शमशेर भालू खान व अमान सिंह आमरण अनशन पर बैठे हैं। और सरकार के कानों तक कोई जू तक नहीं रेंगी । जिससे अब यह मामला तूल पकड़ता जा रहा है इस बीच प्रदेश भर में इस कैडर के लोगों ने अपने समाज और अपने संगठनों तक से गुहार लगाई। जिसके परिणाम स्वरूप लोगों ने आगे आकर आगामी 1 नवम्बर2021 से महापड़ाव में हिस्सा लेने और इनके मांग का समर्थन के करने का विश्वास दिलाया है अब यह देखना है कि सरकार दीपावली के पर्व इनको इनकी मांग पूरी करके खुशियों का तोहफा देती है या फिर पुलिस प्रशासन के जरिए इन को खदेड़ने का काम करती है।गौरतलब है कि राजीव गांधी पैरा टीचर्स,मदरसा पैरा टीचर्स व शिक्षाकर्मी राजस्थान के दूर दराज व गांवो ढाणियों में शिक्षा की ज्योति जलाकर राजस्थान सरकार को पूर्व में सम्मानित भी करवा चुके है इन तीनो कैडर की संख्या 13538 है जो 10 से 35 वर्षों से तृतीय श्रेणी के शिक्षक के समान ही शिक्षण कार्य करवाते है।


Sufi Ki Kalam Se

3 thoughts on “खून से खत लिखने को मजबूर हुए राजस्थान के संविदाकर्मी (गेस्ट रिपोर्टर बशीर शाह साईं पाटौदी)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!