पंचायत अंसारियान का 21वां ऑल मुस्लिम इज्तिमाई निकाह प्रोग्राम मित्व्ययता का शानदार आदर्श

Sufi Ki Kalam Se

सूफ़ी की कलम से
@कोटा न्यूज
————————————-
पंचायत अंसारियान का 21वां ऑल मुस्लिम इज्तिमाई निकाह प्रोग्राम मित्व्ययता का शानदार आदर्श
————————————-
आज दिनांक 2 फरवरी 2021 मंगलवार को पी ए एस गार्डन कोटा में पंचायत अंसारियान समिति कोटा के तत्वावधान में 21 वां इज्तिमाई निकाह प्रोग्राम (सम्मेलन) की एक सप्ताह तक चलने वाली चरणबद्ध श्रृंखला में द्वितीय चरण का आयोजन किया गया ।


समिति के जनरल सेक्रेट्रीअक़ील हुसैन अंसारी के अनुसार द्वितीय चरण में 10 जोड़ों का निकाह शहर क़ाज़ी अनवार अहमद साहब की सरपरस्ती में पढ़ाया गया ।
इस अवसर पर क़ाज़ी-ए-शहर कोटा ने इस प्रकार के सामूहिक आयोजनों की खुलकर प्रशंसा की तथा इन्हें समय की ज़रूरत बताया । उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि इस प्रकार के आयोजनों से न सिर्फ पैसों और समय की बचत होती है बल्कि अन्य समाजों के बीच आपसी सोहार्द भी पैदा होता है तथा इस बचत से समाज के लोग अपना आर्थिक विकास भी कर सकते हैं और फ़िज़ूल ख़र्ची से बचा जा सकता है ।
नाइब क़ाज़ी ज़ुबेर अहमद ने अपने संबोधन में कहा पंचायत अंसारियान का यह आयोजन मित्व्ययता का शानदार आदर्श प्रस्तुत करता है और अन्य समाजों को भी प्रेरित करेगा ।


प्रोग्राम में अध्यक्ष लियाकत हुसैन अंसारी ने नव विवाहित जोड़ों को मुबारकबाद दी ।
रजिस्ट्रेशन प्रभारी रिज़वानुद्दीन अंसारी (ख़ाज़िन) के साथ वरिष्ठ उपाध्यक्ष ज़हूर अहमद , जमील अहमद , साबिर हुसैन अंसारी, ज़रग़ाम अहमद , रफीक अहमद, हाजी मुस्तक़ीम, तारीफ भाई ,सलीम शेरी ,सिराज अहमद अंसारी आदि ने दूल्हा दुल्हनों की बैठक व्यवस्था के प्रबंधों को अंजाम दिया ।
21वां इज्तिमाई निकाह प्रोग्राम पूरे सप्ताह कोविड 19 की सरकारी गाइड लाइन की अनुपालना सुनिश्चित करते हुए आयोजित किया जा रहा है । इस प्रकार पूरे एक सप्ताह में 67 जोड़ों का निकाह सम्पन्न होगा ।


प्रोग्राम में शाकिर हुसैन, फैजुल हक़ , नईम दानिश , हाजी हफीज़ , सरपरस्त हाजी रज़ाक़ , हाजी सज्जाद, हनीफ ठेकेदार , मुज़क्किर ,अक़ील अहमद, मास्टर करीम,आबिद , नितिन सक्सेना, शुजाअत, इमरान, बबलू अशफाक़ , सादिक़, ज़ाकिर, मोहम्मद हुसैन आदि ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई ।
प्रोग्राम में कोटा ज़िले के अतिरिक्त भीलवाड़ा , बारां, बूंदी तथा मध्य प्रदेश से भी जोड़ों ने भाग लिया ।


Sufi Ki Kalam Se
error: Content is protected !!