एजेंसियों का इस्तेमाल कर आतंक पैदा कर रही हैं सरकार, हिरासत में लिये गये नेताओं को बिना शर्त रिहा करे : पीएफआई

Sufi Ki Kalam Se

एजेंसियों का इस्तेमाल कर आतंक पैदा कर रही हैं सरकार, हिरासत में लिये गये नेताओं को बिना शर्त रिहा करे : पीएफआई

अन्ता 22 सितंबर सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया के प्रदेश कार्यकारणी सदस्य फिरोज अंसारी ने बताया कि पॉपुलर फ्रंट जो कि पिछले कई वर्षो से शिक्षा ,चिकित्सा व प्राकृतिक आपदा मे राहत कार्य सहित अन्य सामाजिक कार्य करती रही है। देश में सामाजिक हितों की रक्षा करने वाले सामाजिक संघठन पॉपुलर फ्रंट को पिछले दिनो से पूरे भारतवर्ष में सत्ताधारी दल द्वारा बदले एवं द्वेषता की भावना रखते हुए एस.डी.पी.आई. और पी.एफ.आई. के कार्यकर्ताओं के विरूद्ध एन.आई.ए. और ई.डी. के द्वारा दमनात्मक कार्यवाही करवाई जा रही है, इसी कड़ी में आज मध्य रात्री को राजस्थान राज्य के एस.डी.पी.आई. सचिव सादिक सर्राफ को उनके नयापुरा बारां स्थित मकान से एन.आई.ए. द्वारा जबरन उठा लिया गया। इस सम्बन्ध में जैसे ही एस.डी.पी.आई. के कार्यकर्ताओं एवं मुस्लिम समाज के आमजन को ज्ञात हुआ कि सादिक सर्राफ को एन.आई.ए. ने उठा लिया है, इस प्रकार की कानूनी कार्यवाही पर एस.डी.पी.आई. के सैंकड़ो कार्यकर्ताओं द्वारा सी ए डी सर्किल पर नारेबाजी की, प्रदेश कार्यकारणी सदस्य फिरोज अंसारी ने इस प्रदर्शन में अपने भाषण के दौरान कहा कि सरकार की द्वेषता पूर्वक दमनकारी नीति अधिक दिनों तक नहीं चल सकती, सत्ताधारी दल के इशारे पर एन.आई.ए. और ई.डी. द्वारा झूंठी कार्यवाहियां की जा रही है, सरकार इन संस्थाओं का दुरूपयोग कर रही है, बैकसूर लोगों के विरूद्ध सिर्फ इसलिए कार्यवाही की जा रही है कि वे सरकार की गलत नीतियों का विरोध कर रहे हैं। सत्ताधारी दल ने अगर अपनी दमनकारी नीति को बंद नहीं किया तो यह प्रदर्शन और विरोध आगे भी जारी रहेगा। अंग्रेजो ने भी भारत में दमनकारी नीति अपनाई थी, उनका क्या हाल हुआ यह बात छुपी हुई नहीं है। फिरोज अंसारी ने मांग की कि जिन लोगों को आज रात में पूरे भारतवर्ष के अलग अलग स्थानो से निर्दोष होते हुए भी उठाया गया है, उन्हे वापस छोड़ दिया जाये अन्यथा सरकार को विरोध का सामना करना पड़ेगा। इस विरोध प्रदर्शन के दौरान सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने टायर जलाकर नारेबाजी कर विरोध किया ।


Sufi Ki Kalam Se

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!