पीएफआई मॉगरोल इकाई के सदस्यों ने किया सीसवाली के बाढ़ग्रस्त इलाकों का दौरा (सीसवाली न्यूज)

Sufi Ki Kalam Se

बाढ़ से हुई तबाही का मंजर देख आंखें हुई नम
पॉपुलर फ्रन्ट ऑफ इंडिया मॉगरोल इकाई के सदस्यों ने किया सीसवाली के बाढ़ग्रस्त इलाकों का दौरा

आज सीसवाली कस्बे में आई बाढ़ के बाद लोगो की हालत जानकर जरूरतमंद लोगों की मदद के उद्देश्य से मॉगरोल से पॉपुलर फ्रन्ट के सदस्यों ने सीसवाली का दौरा किया।

जहां मदारपुरा, कालूपुरा, भेरुपुरा धोबियों के मोहल्ले मे सदस्यों ने क्षतिग्रस्त मकानों का सर्वे किया एवं बाढ़ से हुवे लोगों के नुकसान का आंकलन किया।

बाढ़ ने निचली बस्ती के निवासियों कि कमर तोड़ कर रख दी |कई कच्चे मकान पानी से ढह गये जिसमेें कई लोगों का गृहस्थी के सामान के साथ खाने पीने का सामान सहित अनाज भी भीग जाने से खराब हो गया।कई लोगों के सामने सिर छुपाने का भी संकट पैदा हो गया।

वार्ड नम्बर 6 के निवासी शौकत अली के अनुसार वह हार्ट के पेशेंट हैं, ड्राइवरी का काम करते हैं, 5 लड़कियों के पिता हैं प्रधानमंत्री आवास योजना में मकान का काम जारी किया हुवा था कुछ मदद सरकार की तरफ से मिली थी कुछ कर्ज लेकर काम कर रहे थे लेकिन बाढ़ से सब तबाह हो गया।

इसी वार्ड कि प्रेम बाई ने बताया कि वह और उसका बेटा बेलदारी मजदूरी करके जीवन यापन करते हैं सिर छिपाने को मात्र एक कच्चा मकान था जो भी बाढ़ में ढह गया और सिर छिपाने का भी संकट पैदा हो गया।

बादाम बाई के पति की एक वर्ष पहले मौत हो चुकी है दो बेटे हैं जिनके पास भी कोई रोजगार नहीं है, कभी मजदूरी होती है तो कमा लाते हैं लेकिन इस बाढ़ ने मकान को ढहाकर रहने का भी आसरा छीन लिया।

सर्वे के बाद मॉगरोल इकाई अध्यक्ष मो. अयाज ने कहा कि बाढ़ ने हकीकत मे कई लोगों के सामने सिर छिपाने से लेकर खाने पीने, पहनने ओढ़ने तक का संकट पैदा कर दिया है,
सरकार को ऐसे लोगों की तत्काल आर्थिक मदद करके इन्हें हौंसला देने कि जरूरत है और संगठन भी आमजन के सहयोग से लोगों कि ज्यादा से ज्यादा मदद करने कि कोशिश करेगा।

सर्वे टीम मे मॉगरोल एसडीपीआई के नगर अध्यक्ष जाकिर हुसैन, सचिव नदीम अख्तर,मो.रिजवान मो. सलीम, बाबू अल्ताफ हुसैन शराफत अली, हाजी अब्दुल वहीद भी साथ रहे|वहीं ऑल इंडिया इमाम्स कॉउन्सिल के प्रदेश सचिव अताउर्रहमान व सीसवाली के मो. इमरान गयासुद्दीन,मोहम्मद इकबाल यूनुस भाई, बंटी भाई के अलावा संगठन के अन्य सदस्य भी साथ रहे।


Sufi Ki Kalam Se
error: Content is protected !!