राजस्थान में कोरोना अब मुख्यमंत्री के घर तक पहुँचा (गेस्ट ब्लॉगर अशफाक कायमखानी)

Sufi Ki Kalam Se

राजस्थान मे अब कोराना मंत्रियों के घर से आगे जाकर मुख्यमंत्री के घर तक दस्तक दे चुका है।
– गेस्ट ब्लॉगर अशफाक कायमखानी


राजस्थान प्रदेश मे कोराना पोजिटिव मरीजो की तादाद रोजाना सोलह हजार को पार करने लगने के साथ साथ गावं-ढाणियों से होता हुवा कस्बा-शहर होते हुये राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के घर तक दस्तक दे चुका है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व उनकी पत्नी सुनीता गहलोत के कोराना पोजिटिव होने की पुष्टि होने से पहले कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष व शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा भी कोराना पोजिटिव पाये गये है। तीनो होम आईसोलेशन मे है।
कोराना महामारी के चलते राजस्थान के अस्पतालों मे बेड की उपलब्धता व आक्सीजन के मिलने पर संकट के बादल मंडराने लगने से एक तरह से प्रदेश मे अब जाकर भय का माहोंल बनने लगा है। जयपुर, कोटा व बीकानेर मे आक्सीजन नही मिलने से कुछ मरीजों के मरने के समाचार मिले है। अगर प्रदेश मे चिकित्सा व्यवस्था व आक्सीजन उपलब्धता मे शीघ्र सुधार नही हुवा तो राजस्थान के हालात भी अन्य प्रदेशों की तरह बिगड़ सकते है।
हालांकि कोराना की सेकंड वैब को खाफी गम्भीर बताया जा रहा लेकिन कोराना की पहली कमजोर वैब मे भी कोराना से वर्तमान विधानसभा के तीन विधायक राजसमंद विधायक किरण महेश्वरी, सहाड़ा विधायक कैलाश त्रिवेदी व बल्लबगढ़ विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत जान गवां चुके है।
कुल मिलाकर यह है कि सुजानगढ़, राजसमंद व सहाड़ा विधानसभा के उपचुनाव होने के चलते राजनीतिक दलो द्वारा लगातार सभाऐ करने व समय से प्रदेश मे लोकडाऊन (अनुशासन पखवाड़ा) नही लगाने से संक्रमित लोगो की तादाद मे इजाफा माना जा रहा है। लोकडाऊन लगाकर सख्ती करने मे देरी से कदम उठाने की गलती जो केंद्र सरकार ने की उसी तरह अगर राज्य सरकार गलती नही करती तो आज स्थिति भयानक नही होती। फिर भी समय रहते अगर राज्य सरकार ने सख्त कदम उठाकर कड़ाई से पालना नही की ओर चिकित्सा सुविधाओं मे समय रहते सुधार व उपलब्धता पर ध्यान नही दिया जो आगे चलके हालात काफी बिगड़ सकते है।


Sufi Ki Kalam Se
error: Content is protected !!