सूफ़ी की क़लम से..मुसलमानों के बगल में मदरसे ,फिर भी तालीम को तरस रहे

Sufi Ki Kalam Se

सूफ़ी की क़लम से …✍️

मुसलमानों के बगल में मदरसे ,फिर भी तालीम को तरस रहे

इकरा बिस्मे रब्बेकललज्जी खलक.. को क़ुरान की पहली आयत मानने वाले मुसलमानों की शिक्षा कि बात कि जाये तो काफ़ी आश्चर्यजनक आँकड़े सामने आते है ।अक्सर मुस्लिम नेता और बड़े बड़े धर्मगुरु अपने भाषणों कि शुरुआत भी इसी आयत से करते हुए शिक्षा की अहमियत पर लंबी लंबी तक़रीरे करते है । मुस्लिम समाज से संबंधित जीतने भी प्रोग्राम होते होंगे उनमे से ज़्यादातर में तालीम की ही बात कि जाती है । इस आयत के अलावा एक और हदीस का हवाला दिया जाता है जिसमें आख़िरी पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद मुस्तफा (स.अ.) ने कहा था कि “ इल्म हासिल करने के लिए चीन भी जाना पड़े तो जाओ।”

लेकिन अफ़सोस सद अफ़सोस के साथ एक बार फिर से कहना पड़ रहा है कि ये सब बातें जलसों या मंचों  से बाहर आकर आज भी अंजाम तक नहीं पहुँच पाई है। आख़िर क्या वजह है की किसी चीज पर कहने सुनने के  बाद भी आज तक हालातों में इतना सुधार नहीं हुआ है जितनी कोशिश की जा रही है । आज का मुसलमान शिक्षा के अभाव में हर क्षेत्र में लगातार पिछड़ता जा रहा है और इससे भी ज़्यादा  आश्चर्य कि बात ये है कि इन्हें इस चीज़ का अहसास तो है लेकिन उसके प्रति जरा भी गंभीर नहीं है ।

तो आइये आज इसी मुद्दे पर विस्तार से बात करते है-

प्राचीन मदरसा तालीम –

वैसे तो हमारे देश सहित सभी जगहों पर प्राचीन काल से ही शिक्षा प्राप्त करने के विभिन्न इंतज़ामात थे। हिंदुस्तान में शिक्षा के परिप्रेक्ष्य  की बात करें तो यहाँ भी प्राचीन काल से ही हमारा देश शिक्षा का केंद्रबिंदु रहा है । देश में औपचारिक शिक्षा की बात करें तो इसके शुरुआती रुझान मदरसे के रूप में   ही मिलेंगे। सन् 1786 में कलकत्ता में पहले मदरसे (मदरसा ए हुनरी ) की स्थापना के साथ ही औपचारिक  शिक्षा की शुरुआत मानी जाती है। इस मदरसे के साथ ही देश में  शिक्षा का व्यापक प्रचार प्रसार हुआ और  धीरे धीरे संपूर्ण देश में शिक्षा के मंदिरों की बाढ़ आ गई । देश के लोगो का टैलेंट बाहर आने लगा और देखते ही देखते भारत ने शिक्षा के क्षेत्र में काफ़ी उन्नति कर ली और इस उन्नति में मुसलमानों के शैक्षिक स्तर का  प्रतिशत भी ठीक ठाक रहा । भारत  का मुसलमान हमेशा से ही मदरसों से जुड़ा रहा है जहां उन्हें धार्मिक शिक्षा के साथ साथ दुनिया कि तालीम भी मिलती रही है । और इन्ही मदरसों से तालीम हासिल करके कई मुस्लिम युवकों ने इतिहास रचा है जिसमें मोलाना अबुल कलाम, ज़ाकिर हुसैन(राष्ट्रपति) ,डॉ एपीजे कलाम जैसे कई नाम शामिल है । 

मदरसों का मध्यकाल –

एक तरफ़ जहां मदरसा तालीम इतनी कामयाब थी की यहाँ मुस्लिम ही नहीं लाखों की संख्या में ग़ैर मुस्लिमों ने भी मदरसों में  अध्ययन कर एक अलग मक़ाम बनाया ।महान साहित्यकार मुंशी प्रेमचंद  जैसे अनगिनत  ऐतिहासिक चेहरे मदरसा तालीम की ही देन है । आज़ादी के बाद देश में एक साथ कई उतार चढ़ाव आये जिनका असर ,शिक्षा के क्षेत्र में भी पड़ा। धीरे धीरे देश में कई तरह के अलग अलग स्कूल वजूद में आये जिनकी ज़रूरत भी थी  लेकिन मदरसों ने समय के साथ बदलाव नहीं किया तो मदरसे जहां थे वही रह गये और नयी नयी शैक्षणिक संस्थाएँ अपना बेहतर से बेहतर देने की कोशिश करने लगी ।

आधुनिक मदरसा तालीम (वर्तमान)-

मध्यकाल में पिछड़ने की शुरुआत करने वाले मदरसे आधुनिक काल में भी पिछड़ते ही चले गये । ज़्यादातर मदरसों में सिर्फ़ मुस्लिम समाज के ही बच्चे पढ़ने लगे। समय के साथ साथ  मदरसों की संख्या में तो काफ़ी वृद्धि हुई लेकिन उनमें दी जाने वाली तालीम से मुस्लिम बच्चों का उस अनुपात में कोई फ़ायदा नहीं हुआ जितना होना चाहिये था । 

इसके कई कारण है, जानते है वो क्या है –

1- धार्मिक एवं अनिवार्य शिक्षा का पृथक्करण-

आधुनिक मदरसा शिक्षा में बच्चों को धार्मिक शिक्षा के लिए अलग से किसी धार्मिक गुरु के पास जाना पड़ता है और अनिवार्य शिक्षा के लिए मदरसे । ऐसे में दो अलग अलग जगह जाने से मुस्लिम बच्चों के सीखने पर विपरीत प्रभाव पड़ा ।कई मदरसों में दोनों तरह की शिक्षा एक ही जगह दी जाती है लेकिन वहाँ धार्मिक गुरुओं और शिक्षकों में उचित सामंजस्य ना बैठ पाने के कारण भी नुक़सान बच्चों को ही उठाना पड़ रहा है । 

2- सरकारी मदरसे- वर्तमान समय में देश में चल रहे ज़्यादातर मदरसे सरकार के अधीन है इसके चलते होना तो ये चाहिए था की मदरसा तालीम मुख्य धारा से जुड़ जानी चाहिए थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मदरसों पर सरकार की कोई प्रभावी मॉनिटरिंग नहीं हो पाने और मदरसा कमेटियों के पास प्रयाप्त संसाधनों/अनुभवों के अभाव के कारण मदरसा तालीम का ढर्रा बिगड़ा हुआ है ।

3- धार्मिक गुरु बनाम मदरसा शिक्षक-

मदरसों में सरकार द्वारा नियुक्त मदरसा शिक्षक और वहाँ पहले से कार्यरत धार्मिक गुरुओं के बीच तालमेल ना होने की वजह भी  मदरसा तालीम की  गिरावट का एक कारण कहा जा सकता है । धार्मिक शिक्षकों का वेतन मदरसा शिक्षकों से कम होने के कारण उनमें  परस्पर एकता का अभाव होता है । धार्मिक शिक्षक सोचते है कि मदरसा शिक्षक मदरसों के ज़्यादा जिम्मेदार है तो ये बच्चों पर ज़्यादा ध्यान देंगे और उधर मदरसा शिक्षक धार्मिक शिक्षा की जिम्मेदारी पूरी तरह से धार्मिक शिक्षक पर छोड़कर बरीजिम्मा हो जाते है, नतीजतन बच्चों को इस चक्की में पीसना पड़ता है । कई मदरसा शिक्षक तो पढ़ाने के नाम पर  केवल ओपचारिकता कर रहे है जिसका ख़ामियाज़ा बच्चों को भुगतना पड़ रहा है ।

4- अयोग्य व्यक्तियों का नेतृत्व-

सरकार के बाद मदरसों पर स्थानीय कमेटियों का नियंत्रण रहता है जो पूरी तरह से ग़ैर ज़िम्मेदाराना तरीक़े से होता है । ज़्यादातर जगहों पर स्थानीय कमेटियों में ऐसे ऐसे लोगो के हाथों  में बागडोर  है जिनका शिक्षा के क्षेत्र से दूर दूर तक कोई जुड़ाव नहीं है । यही कारण है की वर्तमान में मदरसों पर  करोड़ों रुपये का बजट खर्च  होने के बाद भी स्थितियाँ जस की तस है ।

वर्तमान समय में मदरसों के नाम पर काग़ज़ों में तो करोड़ों अरबों रुपयों का काम हो रहा है लेकिन सच्चाई इससे काफ़ी अलग है । केवल कुछ मदरसों को छोड़कर लगभग सभी मदरसों में केवल शिक्षक ही बचे है उनमें  दूर दूर तक बच्चों के नामो निशान नहीं है और कुछ नामांकन है भी तो केवल दिखावे का । अब ऐसी परिस्थितियों के लिए कौन ज़िम्मेदार है ये सोचने का काम आप पर निर्भर है । सरकार मदरसों को फर्नीचर दे रही है , निःशुल्क किताबें, भोजन और दूध दे रही है , ड्रेस के साथ साथ डिजिटल क्लासरूम भी दे रही है लेकिन कुछ मदरसों को छोड़ दे तो बाक़ी में केवल ख़ानापूर्ति ही हो रही है । 

उपसंहार

पुराने समय से लेकर आजतक मदरसों की संख्या में निरंतर वृद्धि हुई है और साथ ही संशाधनों की कमी भी दूर हुई है । आज हर बच्चे की मदरसे तक आसान पहुँच है ।शायद ही कोई ऐसी मुस्लिम बस्ती हो जहां मदरसा ना हो लेकीन फिर भी मुस्लिम बच्चे शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ते क्यों जा रहे है ?अपने बग़ल में मदरसे होने के बाद भी मुस्लिम बच्चों में ड्रापआउट क्यों बढ़ता हा रहा है ? यह रिसर्च का विषय होना चाहिए । इस पर रिसर्च करके काम  करने कि ज़रूरत है । समस्या इतनी बड़ी भी नहीं है जिसके समाधान में बहुत कुछ करना पड़े । केवल मॉनिटरिंग की कमी है, जागरूकता की कमी है , प्रचार प्रसार की कमी है और एक शब्द में कहा जाये तो केवल मैनेजमेंट कि कमी है  ।अगर ज़िम्मेदार लोग ऐक्टिव मोड में आकर काम करें तो ये ज़्यादा बड़ी चुनोती नहीं है । जहां मदरसों पर अच्छा काम हो रहा है वहाँ के मदरसों से सीख लेकर उस मॉडल को फॉलो करने की ज़रूरत है। मदरसा कमेटियों की ज़िम्मेदारी सिर्फ़ और सिर्फ़ शिक्षित और समर्पित लोगो के हाथ देनी होगी, और ये काम समय रहते नहीं किया गया तो बहुत देर हो जाएगी । देश के सभी समाज, आधुनिक दौर में कदम से कदम मिलकर उन्नति कर रहे है और करना भी चाहिए तो फिर मुस्लिम बच्चों को इस अधिकार से क्यों वंचित रहना पड़े इस पर गौर करने की आवश्यकता है ।

नासिर शाह (सूफ़ी)

सूफ़ी की क़लम से …✍️ सुझाव आमंत्रित है 9636652786

फ़ेसबुक पर जुड़ने केलिए क्लिक करें https://www.facebook.com/sufi.nasir.shah?mibextid=LQQJ4d

utube पर जुड़े – https://youtube.com/@Nasirshahsufi


Sufi Ki Kalam Se

3,764 thoughts on “सूफ़ी की क़लम से..मुसलमानों के बगल में मदरसे ,फिर भी तालीम को तरस रहे

  1. What’s Happening i’m new to this, I stumbled upon this I’ve discovered It absolutely useful and it has helped me out loads.
    I am hoping to contribute & assist other customers like
    its helped me. Great job.

  2. Undeniably consider that that you stated. Your favourite reason seemed to be
    at the net the simplest factor to take note of.

    I say to you, I definitely get irked whilst other people think about
    concerns that they plainly do not know about.
    You controlled to hit the nail upon the top and also outlined out the whole thing with
    no need side-effects , other people can take a signal.
    Will probably be back to get more. Thanks

  3. I think that everything wrote was very reasonable. But, think on this, suppose you composed a catchier title?
    I ain’t saying your content isn’t good, however suppose you added something to possibly get
    a person’s attention? I mean सूफ़ी की क़लम से..मुसलमानों के
    बगल में मदरसे ,फिर भी
    तालीम को तरस रहे – सूफी की कलम
    से is a little plain. You could peek at Yahoo’s front page and
    note how they create post titles to grab people to click.
    You might try adding a video or a related pic or two to get readers interested about everything’ve got to say.
    In my opinion, it would make your blog a little livelier.

  4. Hey I am so happy I found your weblog, I really found you by accident,
    while I was looking on Digg for something else, Anyhow I am
    here now and would just like to say kudos for a tremendous post and a all round
    entertaining blog (I also love the theme/design), I don’t have time
    to look over it all at the minute but I have book-marked
    it and also added in your RSS feeds, so when I have time I will be
    back to read a great deal more, Please do keep up the fantastic job.

  5. I wanted to thank you for this good read!! I certainly enjoyed every little bit of it.
    I have you saved as a favorite to check out new stuff you post…

  6. You actually make it seem so easy with your presentation but I
    find this matter to be actually something which I think I would never understand.
    It seems too complex and extremely broad for me. I am looking forward
    for your next post, I’ll try to get the hang of it!

  7. I am really impressed with your writing skills and also with
    the layout on your blog. Is this a paid theme or did you modify it yourself?
    Either way keep up the excellent quality writing, it’s rare to
    see a nice blog like this one today.

  8. Cenforce può essere un vero toccaferro per gli uomini che hanno regolarmente problemi di erezione, indipendentemente dalle cause di tali problemi. I preparati di Sildenafil sono anche usati per trattare la disfunzione erettile fisiologica e psicologica. BARI CASERTA CATANIA FOGGIA LECCE NAPOLI PALERMO SALERNO Il pene cresce di dimensioni, il che regala senza alcun dubbio notti più piacevoli con la compagna, con erezioni in grado di durare per ore e la possibilità di ricominciare poco dopo la prima eiaculazione. Home Azienda Kamagra Blog Contatti. Utilizzo consente di eseguire le fasi di un italia farmaco comprar che la comprare generico in kamagra con mastercard di kamagra. Inoltre, un olio topico, kamagra trattarsi di jelly problema psicologico.
    https://www.creative-city-berlin.de/en/network/member/comprarefarmaci/
    Io ho sentito dire che si può anche smettere di fumare con la damiana, unendola al tabacco.. se fosse vero sarebbe un ottimo rimedio naturale per smettere di fumare!! Cialis è disponibile in pillole da assumere una volta al giorno con o senza cibo. Viagra, Cialis, Levitra e Spedra non sono quindi capaci di provocare erezioni spontanee: se dopo la loro assunzione non si verifica un rapporto sessuale a livello penieno non si osserva alcun cambiamento. Questi preparati si sciolgono in breve tempo all’interno della bocca e vegono direttamente assorbiti dalle mucose e immessi nella circolazione saltando quindi i passaggi dell’assorbimento gastrico e della circolazione portale. A che età iniziano? Secondo gli studi scientifici in questo campo, le mancanze sessuali sono comuni negli adulti: in Italia ne soffre uno su 8 e negli anni recenti sono in aumento per varie motivazioni con molti uomini che hanno problemi nel mantenere l’erezione.

  9. Hi there, You have done a fantastic job. I’ll certainly
    digg it and personally recommend to my friends.
    I am sure they will be benefited from this website.

  10. You will then be taken to Siru’s site where you’ll verify the amount of your deposit, accept Siru’s terms and conditions, and submit your payment. Privacy I About I Contact I Sitemap I ©2020 Yes No Casino – All rights reserved Check out the top Ethereum casino sites right here. Read our Ethereum casino reviews to find the best site for your gambling needs. Only the best Siru Mobile casinos make it to this phase of our casino assessment. However, we want to narrow the choice of quality casinos even further so that only the top-tier ones remain. To do this, we try out each casino’s games and bonuses. We only list casinos with excellent slots and table games and player-friendly bonuses. Siru safeguards its users’ information with the best security technology, including SSL encryption and two-step authentication. In addition, you do not need to share your financial information with the casino in order to make Siru payments. This means your data is extremely secure.
    http://supersweetcorn.bizvion.kr/board/bbs/board.php?bo_table=free&wr_id=205107
    Little River Casino ResortLocated at US 31 & M-222700 Orchard HighwayManistee, Michigan 49660 The Greektown is part of a block of three casinos located in Detroit, and a lot of care and attention has been taken to making it a masterpiece. The Greektown offers incredible views of the Detroit skyline along with a staggering array of games to play. Seriously, they’ve not only got table games, but also electronic versions of table games, great for anyone who can’t find a seat. Thirty stories, 400 rooms, and located right in the middle of Detroit’s vibrant Greektown district, The Greektown Casino Hotel will deliver excitement and relaxation in the midst of opulent surroundings. Happy Hour at the Alder! Kansas City’s winning destination touts hot slots, world-class tables and nonstop thrills. Whether you’re in the mood for fine dining or the thrill of this state-of-the-art casino floor, Argosy Casino Hotel & Spa takes your experience to the next level.