कॉंग्रेस – बीजेपी की लड़ाई में क्या राजस्थान में तीसरा मोर्चा उभर कर सामने आयेगा? (गेस्ट ब्लॉगर अशफ़ाक कायमखानी)

Sufi Ki Kalam Se

राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है।
मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
गेस्ट ब्लॉगर अशफाक कायमखानी
यपुर
राजस्थान मे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा अपने चहते व विश्वसनीय पंजाब व राजस्थान केडर के कुछ ब्यूरोक्रेट्स को सरकार मे अहम जिम्मेदारी देकर यानि उनकी सरकार मे तूती बढचढ कर बोलती नजर आने से राजनीतिक व ब्यूरोक्रेसी मे अजीब सी हलचल देखने को मिल रही है। वही भाजपा व कांग्रेस के एक एक सीनियर नेता की पार्टी मे घोर उपेक्षा होना साफ नजर आने के परिणाम अगले कुछ दिनो मे प्रदेश मे तीसरे राजनीतिक विकल्प का रास्ता तय कर सकता है।
राजस्थान मे मुख्यमंत्री गहलोत ने अपनी सरकार के आधे से अधिक समय गुजर जाने के बावजूद अपने चहते एक दो जनो की राजनीतिक नियुक्ति करने के साथ साथ एक दर्जन से अधिक सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स व न्यायाधीश को अहम पदो पर नियुक्त किया है। जबकि इसके विपरीत नेताओ व कार्यकर्ताओं सहित जनप्रतिनिधियो की मंत्रीमंडल विस्तार व राजनीतिक नियुक्ति पाने के इंतजार मे आंखे पथरा गई है।
राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को पहले भाजपा नेता व पूर्व मंत्री मदन दिलावर व फिर विपक्ष के नेता गुलाब चंद्र कटारिया द्वारा बीना नाम लिये टारगेट करने की चर्चा काफी गरम है। वही पार्टी स्तर पर किये जा रहे निर्णयों मे राजे की अनदेखी लगातार होते रहने पर उनके समर्थक विधायक कभी कभार गुबार विभिन्न तरह से निकालते रहते है। जबकि उधर कांग्रेस मे पहले गहलोत व पायलट स्वयं किसी बहाने एक दुसरे पर हमलावर होते थे। अब उन दोनो नेताओं की चुप्पी साधने पर उनके समर्थक विधायक आपस मे जबदस्त रुप से एक दुसरे पर हमलावर है। दोनो नेताओं के समर्थक विधायकों के आपस मे जबदस्त रुप से हमलावर होकर ब्यान देने-प्रैस कांफ्रेंस करने से इन दिनो कांग्रेस की अंदरूनी राजनीति की ठसक बाहर नजर आने लगी है।
राजस्थान लोकसेवा आयोग मे ब्यूरोक्रेट्स व गैर कांग्रेसी विचारधारा वालो लोगो को बतौर सदस्य मनोनीत करके गहलोत ने अपने इरादे पहले ही स्पष्ट कर दिये थे। वही गहलोत सरकार मे राजनीतिक व जनप्रतिनिधियों की बजाय कुछ ब्यूरोक्रेट्स की बल्ले बल्ले होने से राजनीतिक हलको की चर्चा का खास मुद्दा बन चुका है। कांग्रेस मे वर्तमान मे पार्टी को मजबूत करने व केंद्र सरकार की गलत नीतियों का जमकर विरोध करके जनता को राहत दिलाने की बजाय प्रदेश कांग्रेस गहलोत व पायलट के मध्य बंट कर एक दुसरे को कमजोर करने मे पुरा दम लगाये हुये है। उधर भाजपा मे भी वसुंधरा राजे समर्थक व विरोधी एक दुसरे पर किसी ना किसी बहाने हमलावर नजर आते है।
कुल मिलाकर यह है कि राजस्थान मे हाईकमान स्तर पर जोड़तोड़ करके मुख्यमंत्री बनने मे गहलोत को माहिर माना जाता है। लेकिन उनके राजनीतिक इतिहास के अनुसार उन्हें सरकार रिपिटर कतई नही माना जाता है। 156 से 56 व 98 से 21 सीट पर कांग्रेस को पटक कर पांच साल भागने वाले नेता के तौर पर गहलोत को पहचाना जाता है। भाजपा व कांग्रेस मे जनाधार वाले व पब्लिक नेता पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे व पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट की उनकी पार्टी के अंदर हो रही उपेक्षाओं के चलते प्रदेश मे तीसरे विकल्प की रुपरेखा बनती साफ नजर आने लगीं है।


Sufi Ki Kalam Se

13 thoughts on “कॉंग्रेस – बीजेपी की लड़ाई में क्या राजस्थान में तीसरा मोर्चा उभर कर सामने आयेगा? (गेस्ट ब्लॉगर अशफ़ाक कायमखानी)

  1. Pingback: this link
  2. Pingback: quik

Comments are closed.

error: Content is protected !!