किसान आंदोलन के समर्थन में “काली पट्टी निषेध” आंदोलन बाड़मेर में सफल (गेस्ट रिपोर्टर बशीर शाह साईं पाटौदी )

Sufi Ki Kalam Se

किसान आंदोलन के समर्थन में “काली पट्टी निषेध” आंदोलन बाड़मेर में सफल (गेस्ट रिपोर्टर बशीर शाह साईं)
बहुजन क्रांति मोर्चा बाड़मेर के जिला संयोजक कानाराम बारूपाल ने बताया कि बहुजन क्रांति मोर्चा और भारत मुक्ति मोर्चा के सहयोगी संगठनों के माध्यम से 550 जिलों में किसानों के समर्थन में “काली पट्टी निषेध” आंदोलन कोरोना काल के चलते अपने अपने घर में रहते हुए किया गया ।
बारूपाल का ने कहा कि देश भर में 30 मई को काली पट्टी निषेध आंदोलन निम्न बिन्दुओं को लेकर किया गया ।
1.केंद्र सरकार द्वारा किसानो पर जबरदस्ती तीन कृषि काले कानून को थोपने के विरोध में ।
2.किसान आंदोलन को 6 महीने पूरे होने पर भी केंद्र की सरकार अभी भी अपनी जिद पर अड़ी हुई है इसके विरोध में ।
राष्ट्रीय किसान मोर्चा के जिला संयोजक जगदीश प्रसाद ने बताया कि काले कानून वापस लेने की मांग को लेकर बाड़मेर जिले में ब्लॉक , तहसील , ग्राम पंचायत, गांव स्तर पर काली पट्टी बांध कर विरोध प्रदर्शन किया गया ।
कोराना संकट काल एवम् लोक डॉउन के चलते जनता घरों में ही सुरक्षित रहते हुए अपने हक अधिकार लेने के लिए संघर्ष कर रही है ।
किसान आंदोलन में बहुजन क्रांति मोर्चा, भारत मुक्ति मोर्चा , राष्ट्रीय किसान मोर्चा, राष्ट्रीय आदिवासी एकता परिषद, राष्ट्रीय अन्य पिछड़ा वर्ग मोर्चा, राष्ट्रीय मुस्लिम मोर्चा,भारतीय विद्यार्थी मोर्चा, भारतीय युवा मोर्चा, भारतीय बेरोजगार मोर्चा, राष्ट्रीय अत्याचार निवारण फोर्स, राष्ट्रीय मूलनिवासी महिला संघ सहित संगठनों ने सहयोग और समर्थन किया और इस मुहिम को कामयाबी की मंजिल तक पहुचाया


Sufi Ki Kalam Se
error: Content is protected !!