रीट की तैयारी कैसे करें?

सूफ़ी की कलम से… ✍️रीट की तैयारी कैसे करें?आम तौर पर समाज में शिक्षक की नौकरी…

फिल्म समीक्षा – दंगल

📝 सूफी की कलम से….. “दंगल” (फिल्म समीक्षा) आमिर खान एक बार फिर अपनी नई फिल्म…

द लल्लनटॉप अड्डा

सूफी की कलम से.. ✍🏻 (यात्रा संस्मरण) जबसे साहित्य से जुड़ा था, तब से साहित्य से…

सुपरहीरो है हमारा पैडमैन

“मर्द आधा घंटे ब्लडिंग कर दे तो मर जाये जबकी औरते पुरे पॉच दिन तक इस…

भारतीय समाज का आईना दिखाती है फिल्म आर्टिकल 15

संवाद 1- “ये तीन लडकियाँ अपनी दिहाड़ी में सिर्फ तीन रुपया बढ़ाने की माँग कर रही…

अपना टाइम आएगा, लेकिन ऑस्कर से चूक जाएगा फिल्म समीक्षा _गल्ली बॉय

“तेरा बाप ड्राइवर है। नौकर का बेटा नौकर बनेगा, ये फितरत है। ” ऐसे नकारात्मक दृष्टिकोण…

विवादित कृषि कानून, क्या सिर्फ किसानो की समस्या है?

पूरी दुनिया के लोग प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से किसानो के कर्जदार है। क्योंकि यही वो…

कोरोना से गुफ़्तगू ( उर्दू इंशाइया का हिन्दी अनुवाद )

क्या हुआ जनाब ए आली?? कैसे घर में दुबक गए? कहाँ गई तुम्हारी अकड़? बड़े अशर्फूल…

इक्कीसवीं सदीं का इक्कीसवां साल

‘सुबह होती है, शाम होती है जिंदगी यों ही तमाम होती है।’ अभी कुछ समय पहले…

error: Content is protected !!